Subscribe for Newsletters and Discounts
Be the first to receive our thoughtfully written
religious articles and product discounts.
Your interests (Optional)
This will help us make recommendations and send discounts and sale information at times.
By registering, you may receive account related information, our email newsletters and product updates, no more than twice a month. Please read our Privacy Policy for details.
.
By subscribing, you will receive our email newsletters and product updates, no more than twice a month. All emails will be sent by Exotic India using the email address info@exoticindia.com.

Please read our Privacy Policy for details.
|6
Your Cart (0)
Share our website with your friends.
Email this page to a friend
Books > Hindi > अर्थसंग्रह: Arthasamgraha
Displaying 4796 of 11425         Previous  |  NextSubscribe to our newsletter and discounts
अर्थसंग्रह: Arthasamgraha
Pages from the book
अर्थसंग्रह: Arthasamgraha
Look Inside the Book
Description

प्राक्कथन

'अर्थ-संग्रह' मीमांसा का एक लघुकाय प्रकरण ग्रन्थ है, जिसमें शाबरभष्य में प्रतिपादित बहुत से विषयों का अतिसंक्षेप में निरूपण है। तक्षेप में अधिकतम विषयों को प्रस्तुत करने के कारण इस ग्रन्थ का प्रचार जिज्ञासु-सामान्य में अत्यधिक हुआ और उपयोगी होने पर भी अनेक प्रकरण ग्रन्थ इतने प्रचलितन हो सकें। विश्वविद्यालयो ने तो मीमांसा का प्रारम्भिक ज्ञान कराने को 'मीमांसा न्याय-प्रकाश'तथा 'अर्थ-संग्रह' ही पाठयक्रम में प्राय निर्धारित है, इनमें भी 'अर्थ संग्रह आगे है।

यद्यपि 'अर्थ-संग्रह' की भाषा बहुत श्लिष्ट नहीं है, तथापि सामाज्य जिज्ञासुओं और विशेषत: छात्रों को इसे देखकर कुछ विचित्र-सा अनुभव होने लगता है छात्र इसमें अन्य निर्धारित दर्शन-ग्रन्थों में प्रतिपादित आत्मा, बल, जगत, प्रकृति, पुरुष, पदार्थ आदि विचयों का निरूपण नहीं पल्ले और इसको दर्शन-ग्रन्थ मानने से भी हिचकते है। इसके अतिरिक्त मीमांसा-ग्रन्थों के विषय वैदिक कर्मकाण्ड से सम्बद्ध हैं जिनसे जन-सामान्य बहत परिचित नहीं है। निरूपित उदाहरण अश्वमेंघ, सोम, राजसूय, वाजपेय आदि मार्गो से सम्बद्ध होते हे, जो आय देखने को भी नहीं मिलते। जो क्रम प्रचलित भी हैं उनमें यजमान पुरोहित की आज्ञा मान निर्देशानुसार कार्य सम्पन्न करते रहते हैं, उनमें 'क्यों', 'कैसे' आदि जानने का कौतूहल नहीं रहा। पुरोहित अथवा आचार्य भी एक स्वीकृत पद्धति के अनुसार कर्म-सम्पन कराते रहते हैं और ऐसे बहुत कम हैं जो मंन्त्रविशेष के विनियोग आदि का विचार करते हो। मीमांसा में किस देवता के लिये, किस प्रयोजन से,किस मन्त्र का, कैसे विनियोग हो? आदि विषयों का प्रधानत: धिपार क्यि। जाता है। कर्मकाण्ड की मिश्रित पद्धतियाँ बिद्यमान होने से पुरोहित का काम इनका विचार करने पर भी चला जाता है। अत: आज वस्तु:स्थिति यह है कि कर्म यजमान और पुरोहित के रहते भी 'कर्म-मीमांसा' उपेक्षित हो गयी। यही कारण है कि सामान्य जिज्ञासु को मीमांसा के प्रारम्भिक ग्रन्थों को भी समझने में कठिनाई हो रही है।

छात्र-हितार्थ दस ग्रन्थ को हिन्दी व्याख्या प्रस्तुत की जा रही है। इसके साथ रामेंश्वरशिवयोगी को 'कौमुदी' भी दी जा रही है मूलग्रन्थ के पाठ का निर्धारण केवल प्रचलित मुद्रित पुस्तकों के ही आचार पर नहीं, अपितु सम्पूर्णा नन्द सकत विश्वविद्यालय वाराणसी के सरस्वती भवन में विद्यमान अनेक पाण्डु-लिपियों से भो किया है और पाठान्तरों का उल्लेख यथास्थान कर दिया है। प्रयास किया गया है कि कोई भी दुरूह स्थल अस्पष्ट रह जाये।

प्रस्तुत ग्रन्थ का लेखन-कार्य लगभग 3 वर्ष पूर्व ही सम्पन्न कर प्रकाशक महोदय को सौंपा जा चुका था परन्तु अनेक ग्रन्थों के प्रकाशन में उनकी अत्यधिक व्यस्तता के कारण यह ग्रन्थ अब प्रकाश में सका है। उस समय तक प्रकाश में आई,ग्रन्थ से सम्बद्ध अँग्रेजी, तलत तया हिन्दी की सम्पूर्ण सामग्री का प्रयोग मैंने साभार किया है।

मैं अपने मित्र डॉ० नवजीवन रस्तोगी, संस्कृत विभाग, लखनऊ तथा उनकी शिष्या श्रीमती मीरा रस्तोगी को ग्रन्थवाद देता हूं, जिन्होंने मुझे बहुत-सी दुर्लभ सामग्री उपलब्ध करायी चौखम्बा सुरभारती प्रकाशन के गुप्त-बन्धुओं को भी ग्रन्थवाद है जिन्होंने ग्रन्थ को यथासम्भव शुद्ध प्रकाशित करने का प्रयास किया।

भूमिका

मीमांसा-निरुक्ति-मान् धातु से सन् और स्त्रीत्व की विवक्षा में टाप् प्रत्ययों के योग से 'मीमांसा' शब्द निष्पन्न होता है, जिसमें दीर्घत्व तथा अभ्यास 'मान्बधदारशान्भ्यों दीर्घश्चाऽऽभ्यासस्य' (पा० सू० 3 1 6) नियम के अनुसार होते हैं । वस्तुत: मान् धातु भ्वादि तथा चुरादि दोनों गणों में पठित है दोनो ही स्थलों पर उसे पूजार्थक' स्वीकार किया है । वार्तिककार उसको 'जिज्ञा- सार्थक'' भी मानते हैं । इन विचारकों की दृष्टि में पूजा और जिज्ञामा दो अर्थ स्पष्ट होते हैं । भट्टोजिदीक्षित ने चुरादि प्रकरण में 310 वी धातु के विवेचन के अवसर पर इसको सन्नन्त होने पर विचारार्थक स्वीकार किया है।3 इस प्रकार पूजा, जिज्ञासा और विचार-ये तीन अर्थ मानु धातु के प्राप्त होते है । इनमें में जिज्ञासा तथा विचार परस्पर निकट हैं, क्योंकि सन्दिग्ध वस्तु में निर्णयहेतु जिज्ञासा होती है और निर्णय बिचारसाध्य होता है। संभवत: इसी दृष्टि से जिज्ञासा अर्थ होने पर मी वृत्तिकार ने इसको विचारार्थक स्वीकार किया है। व्यवहार में सामान्यत: मीमांसा शब्द विचार अर्थ में ही प्रचलित वैद जो जिज्ञासा-पद का लाक्षणिक अर्थ है।4

अर्थसंग्रहकार भास्कर ने इसको और भी स्पष्ट कर दिया है। उनके अनुसार धर्म का विचार प्रस्तुत करने वाला शास्त्र 'मीमांसा' है,5 न कि कोई भी विचार। विख्यात 'भामती' टीका के रचयिता वाचस्पति मिश्र मीमांसा दो 'पूजितविचार' का वाचक स्वीकार करते हैं । 'इनके अनुसार अर्थग्रहण करन पर माद धातु के पूजा तथा जिज्ञासा या विचार दोनों अर्थो की मङ्गति बैठ जाती है, किन्तु यह सङ्गति व्युत्पत्तिगत न होकर ऐतिहासिक हीगी भामती- कार की हीट में पूजितता अर्थ परमपुरुषार्थ-भूत सूक्ष्मतम ब्रह्मज्ञान के विषय में निर्णय देने के कारण है, इसी प्रकार जैमिनिनय के अनुसार परमपुरुषार्थभूत स्वर्ग आदि की प्राप्ति के विशिष्ट साधनो का प्रतिपादक या निर्णायक मानकर यहां मी वह अर्थ स्वीकार किया जा सकता है, किन्तु सत्य यह प्रतीत होता है कि प्राचीनकाल में शनै: शनै: वेदों के प्रति आदर का भाव बढते रहने पर उससे सम्बद्ध विचारों के प्रति भी लोगों में पूज्य-भाव बढा और मीमांसा पूजित-विचार का वाचक हो गया। मान् के दोनों अर्थों की संगति में दीघ अन्तराल की अपेक्षा रही।



Sample Pages















अर्थसंग्रह: Arthasamgraha

Item Code:
NZA734
Cover:
Hardcover
Edition:
2012
ISBN:
9789381484586
Language:
Sanskrit Text with Hindi Translation
Size:
8.5 inch X 5.5 inch
Pages:
218
Other Details:
Weight of the Book: 380 gms
Price:
$15.00
Discounted:
$11.25   Shipping Free
You Save:
$3.75 (25%)
Look Inside the Book
Add to Wishlist
Send as e-card
Send as free online greeting card
अर्थसंग्रह: Arthasamgraha

Verify the characters on the left

From:
Edit     
You will be informed as and when your card is viewed. Please note that your card will be active in the system for 30 days.

Viewed 5048 times since 10th Sep, 2016

प्राक्कथन

'अर्थ-संग्रह' मीमांसा का एक लघुकाय प्रकरण ग्रन्थ है, जिसमें शाबरभष्य में प्रतिपादित बहुत से विषयों का अतिसंक्षेप में निरूपण है। तक्षेप में अधिकतम विषयों को प्रस्तुत करने के कारण इस ग्रन्थ का प्रचार जिज्ञासु-सामान्य में अत्यधिक हुआ और उपयोगी होने पर भी अनेक प्रकरण ग्रन्थ इतने प्रचलितन हो सकें। विश्वविद्यालयो ने तो मीमांसा का प्रारम्भिक ज्ञान कराने को 'मीमांसा न्याय-प्रकाश'तथा 'अर्थ-संग्रह' ही पाठयक्रम में प्राय निर्धारित है, इनमें भी 'अर्थ संग्रह आगे है।

यद्यपि 'अर्थ-संग्रह' की भाषा बहुत श्लिष्ट नहीं है, तथापि सामाज्य जिज्ञासुओं और विशेषत: छात्रों को इसे देखकर कुछ विचित्र-सा अनुभव होने लगता है छात्र इसमें अन्य निर्धारित दर्शन-ग्रन्थों में प्रतिपादित आत्मा, बल, जगत, प्रकृति, पुरुष, पदार्थ आदि विचयों का निरूपण नहीं पल्ले और इसको दर्शन-ग्रन्थ मानने से भी हिचकते है। इसके अतिरिक्त मीमांसा-ग्रन्थों के विषय वैदिक कर्मकाण्ड से सम्बद्ध हैं जिनसे जन-सामान्य बहत परिचित नहीं है। निरूपित उदाहरण अश्वमेंघ, सोम, राजसूय, वाजपेय आदि मार्गो से सम्बद्ध होते हे, जो आय देखने को भी नहीं मिलते। जो क्रम प्रचलित भी हैं उनमें यजमान पुरोहित की आज्ञा मान निर्देशानुसार कार्य सम्पन्न करते रहते हैं, उनमें 'क्यों', 'कैसे' आदि जानने का कौतूहल नहीं रहा। पुरोहित अथवा आचार्य भी एक स्वीकृत पद्धति के अनुसार कर्म-सम्पन कराते रहते हैं और ऐसे बहुत कम हैं जो मंन्त्रविशेष के विनियोग आदि का विचार करते हो। मीमांसा में किस देवता के लिये, किस प्रयोजन से,किस मन्त्र का, कैसे विनियोग हो? आदि विषयों का प्रधानत: धिपार क्यि। जाता है। कर्मकाण्ड की मिश्रित पद्धतियाँ बिद्यमान होने से पुरोहित का काम इनका विचार करने पर भी चला जाता है। अत: आज वस्तु:स्थिति यह है कि कर्म यजमान और पुरोहित के रहते भी 'कर्म-मीमांसा' उपेक्षित हो गयी। यही कारण है कि सामान्य जिज्ञासु को मीमांसा के प्रारम्भिक ग्रन्थों को भी समझने में कठिनाई हो रही है।

छात्र-हितार्थ दस ग्रन्थ को हिन्दी व्याख्या प्रस्तुत की जा रही है। इसके साथ रामेंश्वरशिवयोगी को 'कौमुदी' भी दी जा रही है मूलग्रन्थ के पाठ का निर्धारण केवल प्रचलित मुद्रित पुस्तकों के ही आचार पर नहीं, अपितु सम्पूर्णा नन्द सकत विश्वविद्यालय वाराणसी के सरस्वती भवन में विद्यमान अनेक पाण्डु-लिपियों से भो किया है और पाठान्तरों का उल्लेख यथास्थान कर दिया है। प्रयास किया गया है कि कोई भी दुरूह स्थल अस्पष्ट रह जाये।

प्रस्तुत ग्रन्थ का लेखन-कार्य लगभग 3 वर्ष पूर्व ही सम्पन्न कर प्रकाशक महोदय को सौंपा जा चुका था परन्तु अनेक ग्रन्थों के प्रकाशन में उनकी अत्यधिक व्यस्तता के कारण यह ग्रन्थ अब प्रकाश में सका है। उस समय तक प्रकाश में आई,ग्रन्थ से सम्बद्ध अँग्रेजी, तलत तया हिन्दी की सम्पूर्ण सामग्री का प्रयोग मैंने साभार किया है।

मैं अपने मित्र डॉ० नवजीवन रस्तोगी, संस्कृत विभाग, लखनऊ तथा उनकी शिष्या श्रीमती मीरा रस्तोगी को ग्रन्थवाद देता हूं, जिन्होंने मुझे बहुत-सी दुर्लभ सामग्री उपलब्ध करायी चौखम्बा सुरभारती प्रकाशन के गुप्त-बन्धुओं को भी ग्रन्थवाद है जिन्होंने ग्रन्थ को यथासम्भव शुद्ध प्रकाशित करने का प्रयास किया।

भूमिका

मीमांसा-निरुक्ति-मान् धातु से सन् और स्त्रीत्व की विवक्षा में टाप् प्रत्ययों के योग से 'मीमांसा' शब्द निष्पन्न होता है, जिसमें दीर्घत्व तथा अभ्यास 'मान्बधदारशान्भ्यों दीर्घश्चाऽऽभ्यासस्य' (पा० सू० 3 1 6) नियम के अनुसार होते हैं । वस्तुत: मान् धातु भ्वादि तथा चुरादि दोनों गणों में पठित है दोनो ही स्थलों पर उसे पूजार्थक' स्वीकार किया है । वार्तिककार उसको 'जिज्ञा- सार्थक'' भी मानते हैं । इन विचारकों की दृष्टि में पूजा और जिज्ञामा दो अर्थ स्पष्ट होते हैं । भट्टोजिदीक्षित ने चुरादि प्रकरण में 310 वी धातु के विवेचन के अवसर पर इसको सन्नन्त होने पर विचारार्थक स्वीकार किया है।3 इस प्रकार पूजा, जिज्ञासा और विचार-ये तीन अर्थ मानु धातु के प्राप्त होते है । इनमें में जिज्ञासा तथा विचार परस्पर निकट हैं, क्योंकि सन्दिग्ध वस्तु में निर्णयहेतु जिज्ञासा होती है और निर्णय बिचारसाध्य होता है। संभवत: इसी दृष्टि से जिज्ञासा अर्थ होने पर मी वृत्तिकार ने इसको विचारार्थक स्वीकार किया है। व्यवहार में सामान्यत: मीमांसा शब्द विचार अर्थ में ही प्रचलित वैद जो जिज्ञासा-पद का लाक्षणिक अर्थ है।4

अर्थसंग्रहकार भास्कर ने इसको और भी स्पष्ट कर दिया है। उनके अनुसार धर्म का विचार प्रस्तुत करने वाला शास्त्र 'मीमांसा' है,5 न कि कोई भी विचार। विख्यात 'भामती' टीका के रचयिता वाचस्पति मिश्र मीमांसा दो 'पूजितविचार' का वाचक स्वीकार करते हैं । 'इनके अनुसार अर्थग्रहण करन पर माद धातु के पूजा तथा जिज्ञासा या विचार दोनों अर्थो की मङ्गति बैठ जाती है, किन्तु यह सङ्गति व्युत्पत्तिगत न होकर ऐतिहासिक हीगी भामती- कार की हीट में पूजितता अर्थ परमपुरुषार्थ-भूत सूक्ष्मतम ब्रह्मज्ञान के विषय में निर्णय देने के कारण है, इसी प्रकार जैमिनिनय के अनुसार परमपुरुषार्थभूत स्वर्ग आदि की प्राप्ति के विशिष्ट साधनो का प्रतिपादक या निर्णायक मानकर यहां मी वह अर्थ स्वीकार किया जा सकता है, किन्तु सत्य यह प्रतीत होता है कि प्राचीनकाल में शनै: शनै: वेदों के प्रति आदर का भाव बढते रहने पर उससे सम्बद्ध विचारों के प्रति भी लोगों में पूज्य-भाव बढा और मीमांसा पूजित-विचार का वाचक हो गया। मान् के दोनों अर्थों की संगति में दीघ अन्तराल की अपेक्षा रही।



Sample Pages















Post a Comment
 
Post Review
Post a Query
For privacy concerns, please view our Privacy Policy

Based on your browsing history

Loading... Please wait

Related Items

Arthasamgraha: A Critical Study with special reference to its Technical Terms
by Dr Pradyot Kumar Datta
Hardcover (Edition: 2002)
Sanskrit Pustak Bhandar
Item Code: IDG414
$16.50$12.38
You save: $4.12 (25%)
Add to Cart
Buy Now
The Arthasamgraha of Laugaksi Bhaskara
Item Code: IDJ551
$25.00$18.75
You save: $6.25 (25%)
Add to Cart
Buy Now
Arthasamgrahah of Laugasksi Bhaskara
Item Code: NAN717
$35.00$26.25
You save: $8.75 (25%)
Add to Cart
Buy Now
अर्थसङ्ग्रह: Artha Sangraha of Sri Laugaksi Bhaskara
Item Code: NZK369
$25.00$18.75
You save: $6.25 (25%)
Add to Cart
Buy Now
Abhinavagupta's Commentary on the Bhagavad Gita: Gitartha Samgraha
Deal 10% Off
Item Code: IDD714
$38.50$25.99
You save: $12.51 (10 + 25%)
Add to Cart
Buy Now
Manameyodaya: A Critical Study
Item Code: NAH451
$25.00$18.75
You save: $6.25 (25%)
Add to Cart
Buy Now
Abhinavagupta's Commentary on the Bhagavad Gita: Gitartha Samgraha
Item Code: IDE179
$32.00$24.00
You save: $8.00 (25%)
Add to Cart
Buy Now
मीमांसातर्क भाषा: Mimamsa Tarka Bhasa
Item Code: NZL124
$30.00$22.50
You save: $7.50 (25%)
Add to Cart
Buy Now
ऐतरेयोपनिषत्: Aitareya Upanishad with Four Commentaries According to Ramanuja School
Hardcover (Edition: 1997)
Rashtriya Sanskrit Sansthan
Item Code: NZF642
$20.00$15.00
You save: $5.00 (25%)
Add to Cart
Buy Now

Testimonials

Our Nandi sculpture arrived today and it surpasses all expectations - it is wonderful. We are not only pleasantly surprised by the speed of international delivery but also are extremely grateful for the care of your packaging. Our sculpture needed to travel to an off-lying island of New Zealand but it arrived safely because of how well it had been packaged. Based upon my experience of all aspects of your service, I have no hesitation in recommending Exotic India.
BWM, NZ
Best web site to shop on line.
Suman, USA
Thank you for having such a great website. I have given your site to all the people I get compliments on your merchandise.
Pat, Canada.
Love the website and the breadth of selection. Thanks for assembling such a great collection of art and sculpture.
Richard, USA
Another three books arrived during the last weeks, all of them diligently packed. Excellent reading for the the quieter days at the end of the year. Greetings to Vipin K. and his team.
Walter
Your products are uncommon yet have advanced my knowledge and devotion to Sanatana Dharma. Also, they are reasonably priced and ship quickly. Thank you for all you do.
Gregory, USA
Thank you kindly for the Cobra Ganesha from Mahabalipuram. The sculpture is exquisite quality and the service is excellent. I would not hesitate to order again or refer people to your business. Thanks again.
Shankar, UK
The variety, the quality and the very helpful price range of your huge stock means that every year I find a few new statues to add to our meditation room--and I always pick up a few new books and cds whenever I visit! keep up the good work!
Tim Smith, USA
Love this site. I have many rings from here and enjoy all of them
Angela, USA
THANK YOU SO MUCH for your kind generosity! This golden-brass statue of Padmasambhava will receive a place of honor in our home and remind us every day to practice the dharma and to be better persons. We deeply appreciate your excellent packing of even the largest and heaviest sculptures as well as the fast delivery you provide. Every sculpture we have purchased from you over the years has arrived in perfect condition. Our entire house is filled with treasures from Exotic India, but we always have room for one more!
Mark & Sue, Eureka, California
TRUSTe
Language:
Currency:
All rights reserved. Copyright 2017 © Exotic India