Subscribe for Newsletters and Discounts
Be the first to receive our thoughtfully written
religious articles and product discounts.
By registering, you may receive account related information, our email newsletters and product updates, no more than twice a month. Please read our Privacy Policy for details.
.
Share
Share our website with your friends.
Email this page to a friend
By subscribing, you will receive our email newsletters and product updates, no more than twice a month. All emails will be sent by Exotic India using the email address info@exoticindia.com.

Please read our Privacy Policy for details.
|6
Your Cart (0)
Books > Hindi > योग वासिष्ठ की सात कहानियाँ: (Seven Stories from Yoga Vashishtha)
Displaying 10486 of 10547         Previous  |  NextSubscribe to our newsletter and discounts
योग वासिष्ठ की सात कहानियाँ: (Seven Stories from Yoga Vashishtha)
योग वासिष्ठ की सात कहानियाँ: (Seven Stories from Yoga Vashishtha)
Description

आभार

 

इस पुस्तक की पहली पाण्डुलिपि पर अनेक मित्रों ने मेरा मार्गदर्शन किया है । इनमें डॉ० आर० सी० त्रिवेदी एवं डॉ० इंदु (पाण्डेय) खंडूडी विशेषत' उल्लेखनीय हैं । डॉ० त्रिवेदी ने पाण्डुलिपि के एक एक वाक्य को पढ़ा एवं उसमें ढीलेपन अथवा समस्याओं को बताया । उन्होंने विशेषकर लीलावाद एवं मायावाद पर अपना विचार स्पष्ट करने के लिए कहा । यह दिशा देने के लिए उनका आभार व्यक्त करना चाहता हूँ ।

डॉ० इंदु (पाण्डेय) खंडूडी ने मुख्य प्रश्न यह उठाया है कि युक्ति यदि स्पष्ट हो जाए तो युक्ति नहीं रह जाती है । मुझसे जैसा बन पड़ा वैसा स्पष्टीकरण मैंने दिया है ।

स्वामी कृष्णानंद विरक्त, स्वामी प्रणवानंद, स्वामी ओमपूर्ण स्वतंत्र तथा श्री ए० नागराज एवं अखिलेशजी ने आशीर्वाद देकर मुझे इस पुस्तक को प्रकाशित करने का साहस प्रदान किया है ।

सर्वश्री अखिलेश उरियेन्दु आर्यभूषण भारद्वाज, गुरुदास अग्रवाल, नरेन्द्र दूबे, भारतेन्दु प्रकाश, मोहन बांडे, व्योम अखिल, आर०एल० सिंह, सुभाष सी० कश्यप एवं श्रीधर बोपन्ना ने सुझाव देकर मुझे अनुगृहीत किया है ।'

गीताप्रेस ने योग वासिष्ठ छाप कर जनता को उपलब्ध कराई इसके लिए साधुवाद ।

प्रेमचंद रैकवार ने गीताप्रेस द्वारा प्रकाशित योग वासिष्ठ को साधारण बोलचाल की भाषा में लिखकर इस पुस्तक के प्रकाशन में योगदान दिया है ।

 

भूमिका

 

एक बार युवावस्था में श्रीराम को वैराग्य उत्पन्न हो गया था । संसार उन्हें भ्रम मात्र दिखने लगा था और सांसारिक कार्यों में उनकी रुचि नहीं रह गई थी । उसी समय महर्षि विश्वामित्र अयोध्या पधारे थे । उनकी प्रेरणा से गुरु वसिष्ठ ने श्रीराम को उपदेश दिया जिसके फलस्वरूप श्रीराम राजकाज में प्रवृत्त हुए । यह उपदेश योग वासिष्ठ महारामायण के नाम से जाना जाता है ।

कुछ ऐसी ही परिस्थिति मेरी थी । मेरे सामने प्रश्न था कि यदि संसार वास्तव में है ही नहीं तो फिर आर्थिक विकास की क्या उपयोगिता है? जो सुख मुझे विषयभोग आदि में मिल रहा प्रतीत होता है यदि वह भ्रम मात्र है तो लेखन आदि कार्य करने की क्या जरूरत है? इसी बीच मेरे आध्यात्मिक गुरु स्वामी स्वयंबोधानंद ने योग वासिष्ठ का कम से कम दो बार अध्ययन करने का आदेश देने की कृपा की । योग वासिष्ठ के अध्ययन से इन प्रश्नों का मुझे जो उत्तर मिला वह इस पुस्तक में प्रस्तुत किया है ।

इस पुस्तक को लिखने में मेरा एक उद्देश्य यह रहा है कि इन कठिन विषयों पर मेरी समझ साफ हो जाए । मन में यह भी रहा है कि दूसरे पाठकों का मुझे मार्गदर्शन भी मिले । अत: पाठकों से निवेदन है अपनी प्रतिक्रिया मुझे नीचे लिखे पते पर अवश्य भेजने की कृपा करें ।

इस पुस्तक में मेरी समझ का शिष्य और गुरु के संवाद के रूप में जोड़ दिया गया है । वस्तुत: दोनों मैं ही हूँ या यूँ कहा जा सकता है कि शिष्य मेरी बुद्धि है और गुरु मेरी आत्मा है ।

इस पुस्तक के दो पक्ष हैं । एक पक्ष योग वासिष्ठ की कहानियों को साधारण भाषा में आधुनिक समय के लिए उपयुक्त उदाहरणों के साथ बताना है । पुस्तक का दूसरा पक्ष मेरी अपनी समझ को बताना है । यह गुरु शिष्य संवाद के रूप में दिया गया है । सात कहानियों में प्रत्येक में किसी एक विषय पर प्रमुखत: टिप्पणी की गई है । ये विषय इस प्रकार हैं

लीला युक्ति के रूप में ब्रह्म को निष्क्रिय बताना ।

भुशुण्ड स्पाइनल कालम में चक्रों को आधुनिक मनोविज्ञान की दृष्टि से बताना ।

योग वासिष्ठ की सात कहानियाँ । चूडाला महापुरुषों की सक्रियता का रूप एवं कारण

विद्याधरी स्त्रियों की विशेष क्षमताएँ और आत्म साक्षात्कार की समस्याएँ ।

विपश्चित कर्म सिद्धान्त की गलत व्याख्या से दलितों का शोषण एवं भारत का पतन ।

बलि लीलावाद एवं मायावाद का स्पष्टीकरण ।

प्रह्लाद पूर्ण ब्रह्म में विकास ।

विद्वान पाठक अपनी रुचि के अनुसार सातों कहानियों को पढ़ सकते हैं परन्तु उत्तम यही है कि क्रम से पढ़ा जाए ।

इस पुस्तक में कई शब्दों का विशेष अर्थों में उपयोग किया गया है । इन अर्थ को पुस्तक के प्रारम्भ में 'शब्दार्थ' में दिया गया है । बात समझ न आने पर शब्दार्थ का सहारा लेने से स्पष्टता आ सकती है ।

 

विषय क्रम

1

लीला

1

2

भुशुण्ड

45

3

चूडाला

62

4

विद्याधरी

111

5

विपश्चित

126

6

बलि

139

7

प्रह्लाद

165

 

 

 

 

योग वासिष्ठ की सात कहानियाँ: (Seven Stories from Yoga Vashishtha)

Item Code:
HAA147
Cover:
Paperback
Edition:
2007
Publisher:
Vishwavidyalaya Prakashan Varanasi
ISBN:
9788171245482
Language:
Hindi
Size:
8.5 inch X 5.5 inch
Pages:
191
Other Details:
Weight of the Book: 160 gms
Price:
$10.00   Shipping Free
Add to Wishlist
Send as e-card
Send as free online greeting card
योग वासिष्ठ की सात कहानियाँ: (Seven Stories from Yoga Vashishtha)

Verify the characters on the left

From:
Edit     
You will be informed as and when your card is viewed. Please note that your card will be active in the system for 30 days.

Viewed 1582 times since 8th Feb, 2013

आभार

 

इस पुस्तक की पहली पाण्डुलिपि पर अनेक मित्रों ने मेरा मार्गदर्शन किया है । इनमें डॉ० आर० सी० त्रिवेदी एवं डॉ० इंदु (पाण्डेय) खंडूडी विशेषत' उल्लेखनीय हैं । डॉ० त्रिवेदी ने पाण्डुलिपि के एक एक वाक्य को पढ़ा एवं उसमें ढीलेपन अथवा समस्याओं को बताया । उन्होंने विशेषकर लीलावाद एवं मायावाद पर अपना विचार स्पष्ट करने के लिए कहा । यह दिशा देने के लिए उनका आभार व्यक्त करना चाहता हूँ ।

डॉ० इंदु (पाण्डेय) खंडूडी ने मुख्य प्रश्न यह उठाया है कि युक्ति यदि स्पष्ट हो जाए तो युक्ति नहीं रह जाती है । मुझसे जैसा बन पड़ा वैसा स्पष्टीकरण मैंने दिया है ।

स्वामी कृष्णानंद विरक्त, स्वामी प्रणवानंद, स्वामी ओमपूर्ण स्वतंत्र तथा श्री ए० नागराज एवं अखिलेशजी ने आशीर्वाद देकर मुझे इस पुस्तक को प्रकाशित करने का साहस प्रदान किया है ।

सर्वश्री अखिलेश उरियेन्दु आर्यभूषण भारद्वाज, गुरुदास अग्रवाल, नरेन्द्र दूबे, भारतेन्दु प्रकाश, मोहन बांडे, व्योम अखिल, आर०एल० सिंह, सुभाष सी० कश्यप एवं श्रीधर बोपन्ना ने सुझाव देकर मुझे अनुगृहीत किया है ।'

गीताप्रेस ने योग वासिष्ठ छाप कर जनता को उपलब्ध कराई इसके लिए साधुवाद ।

प्रेमचंद रैकवार ने गीताप्रेस द्वारा प्रकाशित योग वासिष्ठ को साधारण बोलचाल की भाषा में लिखकर इस पुस्तक के प्रकाशन में योगदान दिया है ।

 

भूमिका

 

एक बार युवावस्था में श्रीराम को वैराग्य उत्पन्न हो गया था । संसार उन्हें भ्रम मात्र दिखने लगा था और सांसारिक कार्यों में उनकी रुचि नहीं रह गई थी । उसी समय महर्षि विश्वामित्र अयोध्या पधारे थे । उनकी प्रेरणा से गुरु वसिष्ठ ने श्रीराम को उपदेश दिया जिसके फलस्वरूप श्रीराम राजकाज में प्रवृत्त हुए । यह उपदेश योग वासिष्ठ महारामायण के नाम से जाना जाता है ।

कुछ ऐसी ही परिस्थिति मेरी थी । मेरे सामने प्रश्न था कि यदि संसार वास्तव में है ही नहीं तो फिर आर्थिक विकास की क्या उपयोगिता है? जो सुख मुझे विषयभोग आदि में मिल रहा प्रतीत होता है यदि वह भ्रम मात्र है तो लेखन आदि कार्य करने की क्या जरूरत है? इसी बीच मेरे आध्यात्मिक गुरु स्वामी स्वयंबोधानंद ने योग वासिष्ठ का कम से कम दो बार अध्ययन करने का आदेश देने की कृपा की । योग वासिष्ठ के अध्ययन से इन प्रश्नों का मुझे जो उत्तर मिला वह इस पुस्तक में प्रस्तुत किया है ।

इस पुस्तक को लिखने में मेरा एक उद्देश्य यह रहा है कि इन कठिन विषयों पर मेरी समझ साफ हो जाए । मन में यह भी रहा है कि दूसरे पाठकों का मुझे मार्गदर्शन भी मिले । अत: पाठकों से निवेदन है अपनी प्रतिक्रिया मुझे नीचे लिखे पते पर अवश्य भेजने की कृपा करें ।

इस पुस्तक में मेरी समझ का शिष्य और गुरु के संवाद के रूप में जोड़ दिया गया है । वस्तुत: दोनों मैं ही हूँ या यूँ कहा जा सकता है कि शिष्य मेरी बुद्धि है और गुरु मेरी आत्मा है ।

इस पुस्तक के दो पक्ष हैं । एक पक्ष योग वासिष्ठ की कहानियों को साधारण भाषा में आधुनिक समय के लिए उपयुक्त उदाहरणों के साथ बताना है । पुस्तक का दूसरा पक्ष मेरी अपनी समझ को बताना है । यह गुरु शिष्य संवाद के रूप में दिया गया है । सात कहानियों में प्रत्येक में किसी एक विषय पर प्रमुखत: टिप्पणी की गई है । ये विषय इस प्रकार हैं

लीला युक्ति के रूप में ब्रह्म को निष्क्रिय बताना ।

भुशुण्ड स्पाइनल कालम में चक्रों को आधुनिक मनोविज्ञान की दृष्टि से बताना ।

योग वासिष्ठ की सात कहानियाँ । चूडाला महापुरुषों की सक्रियता का रूप एवं कारण

विद्याधरी स्त्रियों की विशेष क्षमताएँ और आत्म साक्षात्कार की समस्याएँ ।

विपश्चित कर्म सिद्धान्त की गलत व्याख्या से दलितों का शोषण एवं भारत का पतन ।

बलि लीलावाद एवं मायावाद का स्पष्टीकरण ।

प्रह्लाद पूर्ण ब्रह्म में विकास ।

विद्वान पाठक अपनी रुचि के अनुसार सातों कहानियों को पढ़ सकते हैं परन्तु उत्तम यही है कि क्रम से पढ़ा जाए ।

इस पुस्तक में कई शब्दों का विशेष अर्थों में उपयोग किया गया है । इन अर्थ को पुस्तक के प्रारम्भ में 'शब्दार्थ' में दिया गया है । बात समझ न आने पर शब्दार्थ का सहारा लेने से स्पष्टता आ सकती है ।

 

विषय क्रम

1

लीला

1

2

भुशुण्ड

45

3

चूडाला

62

4

विद्याधरी

111

5

विपश्चित

126

6

बलि

139

7

प्रह्लाद

165

 

 

 

 

Post a Comment
 
Post Review
Post a Query
For privacy concerns, please view our Privacy Policy

Related Items

MYSTIC EXPERIENCES TALES OF YOGA AND VEDANTA FROM THE YOGAVASISHTHA
by Dr. BHAGAVAN DAS with Notes by Dr.ANNIE BESANT
Paperback (Edition: 1998)
THE INDIAN BOOKSHOP THE THEOSOPHICAL SOCIETY
Item Code: IDH009
$10.00
Stories from Yoga Vasishtha
Deal 10% Off
by Swami Sivananda
Paperback (Edition: 2009)
The Divine Life Society
Item Code: NAC996
$15.00$13.50
You save: $1.50 (10%)
Yoga Stories and Parables
by Swami Jyotirmayananda
Paperback (Edition: 2013)
International Yoga Society
Item Code: NAC019
$15.00
Stories From The Yoga Vasishtha
by Swami Sivananda
Paperback (Edition: 2005)
The Divine Life Society
Item Code: IDK887
$12.50
SOLD
Japa Yoga (Mantra Yoga) (Theory, Practice and Applications)
by N. C. Panda
Paperback (Edition: 2007)
D. K. Printworld (P) Ltd., New Delhi
Item Code: IDI613
$27.50
The Supreme Yoga: A New Translation of the Yoga Vasistha (Two Volumes)
by Swami Venkatesananda
Paperback (Edition: 2013)
New Age Books
Item Code: IDF290
$35.00
Yoga Vasistha Sara Sangrahah: The Essence of Yoga Vasistha ((Text, Transliteration, Word-to Word-Meaning, Translation and Detailed Commentary))
Deal 10% Off
by Swami Tejomayananda
Paperback (Edition: 2013)
Central Chinmaya Mission Trust, Mumbai
Item Code: IDJ029
$12.00$10.80
You save: $1.20 (10%)
The Supreme Yoga: Yoga Vasistha
by Translated By: Swami Venkatesananda
Paperback (Edition: 2010)
Motilal Banarsidass Publishers Pvt. Ltd.
Item Code: IDF634
$30.00
Yoga Vasishta Sara: The Essence of Yoga Vasishta
Paperback (Edition: 2009)
Sri Ramanasramam
Item Code: IDJ333
$6.00
Musings on Yogavaasishta (Yoga Vasistha) – Part II (Vutpaatti Prakarana)
by Sri Kuppa Venkata Krishna Murthy
Paperback (Edition: 2005)
Avadhoota Datta Peetham
Item Code: NAB753
$25.00
Musings on Yogavaasishta (Yoga Vasistha) – Part IV (The Calm Down)
by Sri Kuppa Venkata Krishna Murthy
Paperback (Edition: 2008)
Avadhoota Datta Peetham
Item Code: NAB759
$22.00
Musings on Yogavaasishta (Yoga Vasistha) – Part III (Sustenance)
by Sri Kuppa Venkata Krishna Murthy
Paperback (Edition: 2006)
Avadhoota Datta Peetham
Item Code: NAB754
$20.00
YOGA VASISTHA Of Valamiki: 4 Volumes
by Edited By: Dr. Ravi Prakash Arya
Hardcover (Edition: 2005)
Parimal Publications
Item Code: IDF619
$155.00
Laghu-Yoga-Vasistha
by K. Narayanaswami Aiyer
Hardcover (Edition: 2001)
The Adyar Library And Research Centre
Item Code: IDH281
$40.00

Testimonials

Received the consignment in time. Excellent service. I place on record your prompt service and excellent way the product was packed and sent. Kindly accept my appreciation and thanks for all those involved in this work. My prayers t the Almighty to continue the excellent service for the many more years to come. Long live EXOTIC INDIA and its employees
N.KALAICHELVAN, Tamil Nadu
A very thorough and beautiful website and webstore. I have tried for several years to get this Bhagavad Gita Home Study Course from Arshavidya and have been unable. Was so pleased to find it in your store!
George Marshall
A big fan of Exotic India. Have been for years and years. I am always certain to find exactly what I am looking for in your merchandise.
John Dash, western New York, USA
I just got my order and it’s exactly as I hoped it would be!
Nancy, USA.
It is amazing. I am really very very happy with your excellent service. I received the book today in an awesome condition. Thanks again.
Shambhu, New York.
Thank you for making available some many amazing literary works!
Parmanand Jagnandan, USA
I have been very happy with your service in selling Puranas. I have bought several in the past and am happy with the packaging and care you exhibit. Thank you for this Divine Service.
Raj, USA
Thank you very much! My grandpa received the book today and the smile you put on his face was priceless. He has been trying to order this book from other companies for months now. He only recently asked me for help and you have made this transaction so easy. My grandpa is so happy he wants to order two more copies. I am currently in the process of ordering 2 more.
Rinay, Australia
I would just let you know that today I received my order. It was packed so beautifully and what lovely service.
Caroline, Australia
I have received the book in good condition. Thanks a lot for your excellent service!
Gabe, Netherlands
TRUSTe online privacy certification
Language:
Currency:
All rights reserved. Copyright 2016 © Exotic India