मोहनलाल महतो वियोगी (भारतीय साहित्य के निर्माता) - Mohanlal Mahato Viyogi (Makers of Indian Literature)

मोहनलाल महतो वियोगी (भारतीय साहित्य के निर्माता) - Mohanlal Mahato Viyogi (Makers of Indian Literature)

$15
Quantity
Ships in 1-3 days
Item Code: NZA287
Author: रामनिरंजन परिमलेन्दु (Ramniranjan Primlendu)
Publisher: Sahitya Akademi, Delhi
Language: Hindi
Edition: 2011
ISBN: 9788126025503
Pages: 136
Cover: Paperback
Other Details 8.5 inch x 5.5 inch
Weight 190 gm

पुस्तक परिचय

मोहनलाल महतो वियोगी (जन्म 1902, निधन 7 फरवरी 1990) प्राय: मान दशकों तक अपनी प्रखर प्रतिभा से हिन्दी साहित्य की विभिन्न विधाओं को निष्ठापूर्वक समृद्ध करते रहे । उन्होंने अनेक दर्जन मौलिक एवं अविस्मरणीय उल्लेखनीय पुस्तकों की रचना की । वियोगी जी का काव्य वैयक्तिकता सै राष्ट्रीयता की ओर है । निर्माल्य: एकतारा और कल्पना में उनकी प्रखर हृदयस्पर्शी वैयक्तिकता है, आयावत में राष्ट्रधर्म और राष्ट्रीयता है । उनक गद्य-क्षेत्र अत्यन्त उर्वर, विशाल और समृद्ध है । वे कहानीकार, उपन्यासकार, नाटककार, निबंधकार और संस्मरणकार थे और सबसे बड़ी बात यह कि वे विचारक भी थे । उनकी गद्य-रचनाओं में सूक्तियों के असंख्य मोती हैं । उनकी सैकड़ों रचनाएँ विगत सात दशकों की हिन्दी पत्र-पत्रिकाओं में अब तक असंकलित विखरी हुई हैं ।

वियोगी जी ने हिन्दी साहित्य को एक जुदा अंदाज़ दिया है, नई पहचान दी है । अपनी किसी भी प्रस्तुति में वे अपनी अलग पहचान देने में पूर्ण रूप से सक्षम हैं । उन्होंने लगातार अपने अपिको एक ढर्रेपन से बचाने की सफल कोशिश की है । वियोगी जी के संपूर्ण साहित्य का मूल स्वर है-एक दुनिया एक सपना ।

लेखक परिचय

इस विनिबंध के लेखक डॉ० रामनिरंजन परिमलेन्दु, बी.आर. अम्बेडकर बिहार विश्वविद्यालय, मुजफ्फरपुर के पूर्व यूनिवर्सिटी प्रोफेसर (हिन्दी) हैं । सेवानिवृत्ति के पश्चात् आपने विश्वविद्यालय अनुदान आयोग, नई दिल्ली के तत्त्वावधान में बृहत् अनुसंधान परियोजना (हिन्दी) के प्रधान अन्वेषक का कार्य किया । आप उन्नीसवीं शताब्दी के संपूर्ण हिन्दी साहित्य और पत्रकारिता, हिन्दी के आरंभिक उपन्यास-साहित्य, देवनागरी लिपि आदोलन का इतिहास आदि के मर्मज्ञ हैं तथा अनेक विशिष्ट ग्रंथों के मान्य लेखक हैं और प्राय: 55 वर्षों से हिंदी साहित्य सृजन से निष्ठापूर्वक जुड़े हुए हैं ।

 

अनुक्रम

1

भूमिका

7

2

मोहनलाल महतो वियोगी जीवन की रेखाओं में

13

3

वियोगी जी का रचना-संसार

36

4

मोहनलाल महतो वियोगी का काव्य

44

5

उपन्यासकार मोहनलाल महतो वियोगी

77

6

कहानीकार वियोगी

91

7

वियोगी जी का नाट्य साहित्य

95

8

निबंधकार वियोगी

104

9

वियोगी जी के संस्मरण

112

10

वियोगी जी का बाल-साहित्य

123

परिशिष्ट

1

(क) मोहनलाल महतो वियोगी का प्रकाशित साहित्य

131

2

(ख) संदर्भ-सूची

135

 

Add a review
Have A Question

For privacy concerns, please view our Privacy Policy

CATEGORIES