Please Wait...

निर्मला: Nirmala

निर्मला: Nirmala
$16.00
Ships in 1-3 days
Item Code: NZF206
Author: प्रेमचन्द (Premchand)
Publisher: Lokbharti Prakashan
Language: Hindi
Edition: 2014
ISBN: 9788180316418
Pages: 140
Cover: Paperback
Other Details: 7.0 inch X 5.0 inch
weight of the book: 130 gms
लेखक परिचय

• मुंशी प्रेमचंद एक व्यक्ति तो थे ही, एक समाज भी थे, एक देश भी थे | व्यक्ति, समाज और देश-तीनो उनके ह्रदय में थे | उन्होंने बड़ी गहराई के साथ तीनो की समस्याओ का अध्ययन किया |

• प्रेमचंद हर व्यक्ति की, पूरे समाज की और देश की समस्याओ को सुलझाना चाहते थे, पर हिंसा से नहीं, विद्रोह से नहीं, अशांति से नहीं और अनयक्ता से नहीं | वे समस्याओ को सुलझाना चाहते थे प्रेम से, अहिंसा से, शांति से सौहार्द से, एकता से और बन्धुता से |

• प्रेमचंद आदर्श का झण्डा हाथ में लेकर प्रेम, एकता, बन्धुता, सौहार्द और अहिंसा के प्रचार में जीवनपर्यन्त लगे रहे | उनकी रचनाओ में उनकी यही विशेषताएँ तो है |

• प्रेमचंद जनता के कथाकार थे | उनकी कृतियों में समाज के सुख-दुःख, आशा-आकांक्षा, उत्थान-पतन इत्यादि के सजीव चित्र हमारे हृदयो को हमेशा छूते रहेंगे | वे रवीन्द्र और शरद के साथ भारत के प्रमुख कथाकार थे जिनको पढ़े बिना भारत कोई समझना संभव नहीं |

Sample Page


Add a review

Your email address will not be published *

For privacy concerns, please view our Privacy Policy

Post a Query

For privacy concerns, please view our Privacy Policy

CATEGORIES

Related Items