Subscribe for Newsletters and Discounts
Be the first to receive our thoughtfully written
religious articles and product discounts.
Your interests (Optional)
This will help us make recommendations and send discounts and sale information at times.
By registering, you may receive account related information, our email newsletters and product updates, no more than twice a month. Please read our Privacy Policy for details.
.
By subscribing, you will receive our email newsletters and product updates, no more than twice a month. All emails will be sent by Exotic India using the email address info@exoticindia.com.

Please read our Privacy Policy for details.
|6
Sign In  |  Sign up
Your Cart (0)
Share our website with your friends.
Email this page to a friend
Books > Language and Literature > हिन्दी साहित्य > पुदुमैपित्तन (भारतीय साहित्य के निर्माता) - Pudumaipittan (Makers of Indian Literature)
Displaying 1 of 4553         Previous  |  NextSubscribe to our newsletter and discounts
पुदुमैपित्तन (भारतीय साहित्य के निर्माता) - Pudumaipittan (Makers of Indian Literature)
पुदुमैपित्तन (भारतीय साहित्य के निर्माता) - Pudumaipittan (Makers of Indian Literature)
Description

पुस्तक परिचय

पुदुमैपित्तन (25 अप्रैल, 1906 30 जून,1948) तमिल भाषा को अपने गद्य साहित्य से नई शोभा या गरिमा प्रदान करने का श्रेय पुदुमैपित्तन को जाता है इनका असली नाम था चो वृद्धाचलम । पढ़ाई दौरान ही स्वतंत्र रूप से लेखन के बाद ये चेन्नै से प्रकाशित पत्रिका मणिक्कोडी में काम करने के लिए गए वहाँ समुचित वेतन न होने के कारण उसे छोड़कर ऊषियन नामक पत्रिका में उपसंपादक हो गए, लेकिन अपनी विचारधारा के चलते वे यहाँ ज्यादा दिन नहीं टिक सके। वापस चन्नै आ गए इस बीच मणिक्कोडी में इनकी कहानियाँ निरंतर प्रकाशित होती रहीं 1936 में इस पत्रिका के बंद होने पर ये दिनमणिके संपादन मंडल में शामिल हो गए इसके प्रतिवर्ष निकलने वाले वार्षिक विशेषाको के कुशल संपादन से इनको ख्याति तो मिली ही, इनकी भी कुछ श्रेष्ठ कहानियाँ इनमें प्रकाशित हुई जीवनयापन के लिए अथक संघर्ष करते हुए इन्होंने 1946 में फिल्म क्षेत्र मे प्रवेश किया

पुदुमैपित्त की कहानियाँ तमिल कहानी साहित्य के विकास एव इतिहास में एक मील का पत्थर हैं। इन्होंने तमिल कहानी को एक नया मोड़ दिया इन्होंने कविताएँ, निबंध, छोटे नाटक लिखे व अनुवाद भी किया अल्प अवधि में लिखा उनका साहित्य उनकी प्रतिभा, अटूट आत्मविश्वास, जुझारू तेवर और नए प्रयोगों कोकर दिखाने की ललक का अद्भुत सम्मिश्रण है।

लेखक परिचय

वल्लिकण्णन इनका असली नाम रा सु. कृष्णस्वामी था इनका जन्म 12 नवबर 1920 को तनिलनादु में तिरूनेलवेली ज़िले के राजवलिनपुरम में हुआ था कविता, कहानी, नाटक, जीवनी. समीक्षा आदि विविध विधाओं मे आपने सफलतापूर्वक क़लम चलाई पुदुक्कविनैयिन् तोइमुम् वलर्चियुम् (नई कविता का उद्भव और विकास) नामक पुस्तक पर आपको 1978 में साहित्य अकादेमी पुरस्कार मिला सृजनात्मक साहित्यकार होने के साथ वल्लिकण्णन स्वाभिमानी लेखक और स्वतंत्र पत्रकार भी रहे ।आपने ग्राम ऊष़ियन सिनेमा उलगम नवशक्ति पत्रिकाओं का वर्षों तक संपादन किया शकुंतला विजिलेल्लि वीड़म् वेलियुम् उल्लेखनीय उपन्यास हैं 2008 में आपका निधन हो गया।

एच. बालसुब्रह्मण्यम (1932) मूल रूप से तमिलनाडु के तिरुनेलवेली जिले के हैं जन्म और शिक्षा केरल मे होने के कारण मलयालम् भाषा का भी पर्याप्त ज्ञान रखते हें आपने भागलपुर विश्वविद्यालय से एम. .(हिंदी) ओर पीएच.डी. की उपाधियाँ प्राप्त की केद्रीय हिंदी निदेशालय से सहायक निदेशक पद से सेवानिवृत होने के बाद तमिल, मलयालम् और हि.दी के परस्पर अनुवाद मे संलग्न हैं। आपने तमिल के विख्यात उपन्यासकार अखिलन जयकांतन नील पद्यनाभन तोप्पिल मुहम्मद मीरान आदि की कृतियों का हिंदी में अनुवाद किया है। आप साहित्य अकादमी अनुवाद पुरस्कार के अलावा उत्तर प्रदेश हिंदी सस्थान से सोहार्द सम्मान , संसदीय हिंदी समिनि, दिल्ली हिंदी साहित्य सम्मेलन से साहित्य श्री , उद्भव विशिष्ट सम्मान आदि से नवाज़े गए हैं।

पुरोवाक्

तमिल कथा साहित्य में पुदुमैपित्तन अपनी अनोखी विशेषताओं के साथ समुन्नत स्थान पर खड़े हैं ।

महाकवि सुब्रह्मण्य भारती ने अपनी कविताओं के द्वारा आधुनिक तमिल को समृद्ध किया । उनके बाद गद्य साहित्य के जरिए, खासकर कहानियों के माध्यम से, तमिल भाषा को नई शोभा, सुषमा और गरिमा प्रदान करने का श्रेय पुदुमैपित्तन को हैं । पुदुमैपित्तन ने जिस समय कहानी लेखन शुरू किया था, उसी समय तमिल में आधुनिक शैली की कहानी का बिरवा अंकुरित हो रहा था । यों कह सकते हैं कि उन्नीस सौ बीस के दशक में तमिल कहानी ने उस पगडंडी पर कदम रखा, जिससे होकर वह आधुनिकता और साहित्यिकता के राजपथ पर पहुँच गई । सर्वमान्य धारणा यही है, आधुनिक तमिल कहानी के जनक स्वनामधन्य व. वे. सु. अम्पर थे जो समर्पित देशभक्त, साहित्य के आस्वादक, समीक्षक एवं भावनासंपन्न सर्जक रहे उनकी लिखी मंगैयर्करसियिन् कादल (मंगेयर्करसी का प्रेम), कुलत्तंकरै अरसमरम् (तालाब किनारे का बरगद) जैसी साहित्यिक कहानियाँ बाद के कहानीकारों के लिए मिसाल बन गईं ।

तमिल के तीन प्रारंभिक उपन्यासकारों में अन्यतम अ माधवव्या उन्हीं दिनों सामाजिक नजरिये के साथ सुधारवादी कहानियाँ लिख रहे थे । उनके बाद 193० के दशक में तमिल कहानी वस्तु और कथन शैली में नई भंगिमा के साथ क़दम बढ़ाने लगी थी । भाषा और साहित्य का उत्थान, समाज सेवा तथा राजनैतिक जागृति के उद्देश्य से नई नई पत्रिकाएँ सक्रिय रूप से काम करने लगीं ।

ऐतिहासिक दृष्टि से वह एक महत्वपूर्ण कालखंड था । देश में शासन चला रही ब्रिटिश सत्ता से मुक्ति पाने के लिए छेड़ा गया स्वतंत्रता आदोलन महात्मा गाँधी का नेतृत्व पाकर पूरे देश में हलचल मचा रहा था । समूचे हिंदुस्तान में राजनैतिक जागरण के साथ समाज सुधार और भाषा के नवोत्थान का उद्वेग देखनेको मिलता था । भारत की सभी भाषाओं में इसका प्रभाव परिलक्षित था । तमिल भाषा में भी नवजागरण की लहर छा गई । पत्र पत्रिकाओं ने इस दिशा में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई । इस कालखंड में पत्रिकाएँ कहानियों के लिए अधिक स्थान देने लगीं । कहानी लेखकों की संख्या में भी वृद्धि हुई । तदनुरूप पाठकों की भी संख्या बढ़ती गई ।

रा. कृष्णमूर्ति कल्कि पाठकों का मनोरंजन करने वाली ऐसी हास्य विनोदपूर्ण कहानियाँ लिखने के प्रयास में सफलतापूर्वक आगे बढ़ रहे थे, जो जीवन की गहरी समस्याओं से सर्वथा विलग रही थीं । कल्कि इस तरह की कहानियाँ लिखने वालों को आनंद विकटननामक पत्रिका में प्रोत्साहित भी करते थे । जो साहित्यकार इस तरह की विचार धारा और प्रवृत्ति से सहमत नहीं थे, वे सुतंतिर चकुं गांधी जैसी पत्रिकाओं में लिखने लगे । बाद में उन्होंने मणिक्कोडी नामक पत्रिका के माध्यम से अपनी सृजन क्षमता का प्रदर्शन किया । मणिक्कोडी जो डेढ़ वर्ष तक राजनीति, समाज और साहित्य तीनों क्षेत्रों पर केंद्रित रही, अब विशुद्ध रूप से कहानियों की पत्रिका के रूप में प्रकाशित होने लगी ।

कुछेक गिने चुने लेखक जो विश्व साहित्य में विशेष गति एवं क्षमता रखते थे, तमिल कहानी के क्षेत्र में नए प्रयोग करने के इच्छुक थे । ये लेखक उत्साहपूर्वक नए ढंग की कहानियाँ लिखने लगे और इस प्रयास में उन्हें मार्के की सफलता मिली । ऐसे कथाकारों के समूह में पुदुमैपित्तन अग्रणी रहे ।

पुदुमैपित्तन ने अपनी कहानियों के लिए चयनित विषयों में, उन्हें कथा के रूप में ढालने की कला में, कथन शैली की भंगिमा में जो उद्वेग और साहसिकता दिखाई, वह असाधारण एवं अनुकरणीय थी । विश्व साहित्य में उनकी जितनी अच्छी गति थी, प्राचीन तमिल साहित्य में भी उन्हें महारत हासिल थी । इसी पृष्ठभूमि में उन्होंने तमिल में शब्द सौष्ठव और अर्थ गांभीर्य से युक्त अनेक सुंदर कृतियों का सृजन किया ।

पुदुमैपित्तन ने कहानी, लघु उपन्यास, साहित्यिक निबंध, समीक्षा, एकांकी, कविता, आदि विविध विधाओं में सफलतापूर्वक क़लम चलाने के साथ साथ विश्व साहित्य की अनेक कहानियों को तमिल में अनूदित किया है । फिर भी कहानी में ही उन्होंने पूरी लगन के साथ अपनी सृजनात्मकता का प्रदर्शन किया और इसी विधा में उन्होंने नए नए प्रयोग किए । उनकी कहानियों के अंदर इस क़दर जादुई आकर्षण सन्निहित है कि पुदुमैपितन का नाम सुनते ही साहित्य प्रेमी पाठकों के मन में उनकी अद्भुत एवं अनोखी कहानियों की स्मृति उभर उठती है ।

 

अनुक्रम

1

पुरोवाक्

5

2

जीवन

9

3

कहानियाँ

24

4

निबंध

61

5

कविताएँ

65

6

कुछ खास जानकारियाँ

72

7

पुदुमैपितन का प्रभाव

77

8

परिशिष्ट पुदुमैपित्तन की रचनाएँ

79

Sample Pages




पुदुमैपित्तन (भारतीय साहित्य के निर्माता) - Pudumaipittan (Makers of Indian Literature)

Item Code:
NZA292
Cover:
Paperback
Edition:
2013
Publisher:
ISBN:
9788126030910
Language:
Hindi
Size:
8.5 inch x 5.5 inch
Pages:
80
Other Details:
Weight of the Book: 125gms
Price:
$7.00   Shipping Free
Add to Wishlist
Send as e-card
Send as free online greeting card
पुदुमैपित्तन (भारतीय साहित्य के निर्माता) - Pudumaipittan (Makers of Indian Literature)

Verify the characters on the left

From:
Edit     
You will be informed as and when your card is viewed. Please note that your card will be active in the system for 30 days.

Viewed 1730 times since 29th Apr, 2017

पुस्तक परिचय

पुदुमैपित्तन (25 अप्रैल, 1906 30 जून,1948) तमिल भाषा को अपने गद्य साहित्य से नई शोभा या गरिमा प्रदान करने का श्रेय पुदुमैपित्तन को जाता है इनका असली नाम था चो वृद्धाचलम । पढ़ाई दौरान ही स्वतंत्र रूप से लेखन के बाद ये चेन्नै से प्रकाशित पत्रिका मणिक्कोडी में काम करने के लिए गए वहाँ समुचित वेतन न होने के कारण उसे छोड़कर ऊषियन नामक पत्रिका में उपसंपादक हो गए, लेकिन अपनी विचारधारा के चलते वे यहाँ ज्यादा दिन नहीं टिक सके। वापस चन्नै आ गए इस बीच मणिक्कोडी में इनकी कहानियाँ निरंतर प्रकाशित होती रहीं 1936 में इस पत्रिका के बंद होने पर ये दिनमणिके संपादन मंडल में शामिल हो गए इसके प्रतिवर्ष निकलने वाले वार्षिक विशेषाको के कुशल संपादन से इनको ख्याति तो मिली ही, इनकी भी कुछ श्रेष्ठ कहानियाँ इनमें प्रकाशित हुई जीवनयापन के लिए अथक संघर्ष करते हुए इन्होंने 1946 में फिल्म क्षेत्र मे प्रवेश किया

पुदुमैपित्त की कहानियाँ तमिल कहानी साहित्य के विकास एव इतिहास में एक मील का पत्थर हैं। इन्होंने तमिल कहानी को एक नया मोड़ दिया इन्होंने कविताएँ, निबंध, छोटे नाटक लिखे व अनुवाद भी किया अल्प अवधि में लिखा उनका साहित्य उनकी प्रतिभा, अटूट आत्मविश्वास, जुझारू तेवर और नए प्रयोगों कोकर दिखाने की ललक का अद्भुत सम्मिश्रण है।

लेखक परिचय

वल्लिकण्णन इनका असली नाम रा सु. कृष्णस्वामी था इनका जन्म 12 नवबर 1920 को तनिलनादु में तिरूनेलवेली ज़िले के राजवलिनपुरम में हुआ था कविता, कहानी, नाटक, जीवनी. समीक्षा आदि विविध विधाओं मे आपने सफलतापूर्वक क़लम चलाई पुदुक्कविनैयिन् तोइमुम् वलर्चियुम् (नई कविता का उद्भव और विकास) नामक पुस्तक पर आपको 1978 में साहित्य अकादेमी पुरस्कार मिला सृजनात्मक साहित्यकार होने के साथ वल्लिकण्णन स्वाभिमानी लेखक और स्वतंत्र पत्रकार भी रहे ।आपने ग्राम ऊष़ियन सिनेमा उलगम नवशक्ति पत्रिकाओं का वर्षों तक संपादन किया शकुंतला विजिलेल्लि वीड़म् वेलियुम् उल्लेखनीय उपन्यास हैं 2008 में आपका निधन हो गया।

एच. बालसुब्रह्मण्यम (1932) मूल रूप से तमिलनाडु के तिरुनेलवेली जिले के हैं जन्म और शिक्षा केरल मे होने के कारण मलयालम् भाषा का भी पर्याप्त ज्ञान रखते हें आपने भागलपुर विश्वविद्यालय से एम. .(हिंदी) ओर पीएच.डी. की उपाधियाँ प्राप्त की केद्रीय हिंदी निदेशालय से सहायक निदेशक पद से सेवानिवृत होने के बाद तमिल, मलयालम् और हि.दी के परस्पर अनुवाद मे संलग्न हैं। आपने तमिल के विख्यात उपन्यासकार अखिलन जयकांतन नील पद्यनाभन तोप्पिल मुहम्मद मीरान आदि की कृतियों का हिंदी में अनुवाद किया है। आप साहित्य अकादमी अनुवाद पुरस्कार के अलावा उत्तर प्रदेश हिंदी सस्थान से सोहार्द सम्मान , संसदीय हिंदी समिनि, दिल्ली हिंदी साहित्य सम्मेलन से साहित्य श्री , उद्भव विशिष्ट सम्मान आदि से नवाज़े गए हैं।

पुरोवाक्

तमिल कथा साहित्य में पुदुमैपित्तन अपनी अनोखी विशेषताओं के साथ समुन्नत स्थान पर खड़े हैं ।

महाकवि सुब्रह्मण्य भारती ने अपनी कविताओं के द्वारा आधुनिक तमिल को समृद्ध किया । उनके बाद गद्य साहित्य के जरिए, खासकर कहानियों के माध्यम से, तमिल भाषा को नई शोभा, सुषमा और गरिमा प्रदान करने का श्रेय पुदुमैपित्तन को हैं । पुदुमैपित्तन ने जिस समय कहानी लेखन शुरू किया था, उसी समय तमिल में आधुनिक शैली की कहानी का बिरवा अंकुरित हो रहा था । यों कह सकते हैं कि उन्नीस सौ बीस के दशक में तमिल कहानी ने उस पगडंडी पर कदम रखा, जिससे होकर वह आधुनिकता और साहित्यिकता के राजपथ पर पहुँच गई । सर्वमान्य धारणा यही है, आधुनिक तमिल कहानी के जनक स्वनामधन्य व. वे. सु. अम्पर थे जो समर्पित देशभक्त, साहित्य के आस्वादक, समीक्षक एवं भावनासंपन्न सर्जक रहे उनकी लिखी मंगैयर्करसियिन् कादल (मंगेयर्करसी का प्रेम), कुलत्तंकरै अरसमरम् (तालाब किनारे का बरगद) जैसी साहित्यिक कहानियाँ बाद के कहानीकारों के लिए मिसाल बन गईं ।

तमिल के तीन प्रारंभिक उपन्यासकारों में अन्यतम अ माधवव्या उन्हीं दिनों सामाजिक नजरिये के साथ सुधारवादी कहानियाँ लिख रहे थे । उनके बाद 193० के दशक में तमिल कहानी वस्तु और कथन शैली में नई भंगिमा के साथ क़दम बढ़ाने लगी थी । भाषा और साहित्य का उत्थान, समाज सेवा तथा राजनैतिक जागृति के उद्देश्य से नई नई पत्रिकाएँ सक्रिय रूप से काम करने लगीं ।

ऐतिहासिक दृष्टि से वह एक महत्वपूर्ण कालखंड था । देश में शासन चला रही ब्रिटिश सत्ता से मुक्ति पाने के लिए छेड़ा गया स्वतंत्रता आदोलन महात्मा गाँधी का नेतृत्व पाकर पूरे देश में हलचल मचा रहा था । समूचे हिंदुस्तान में राजनैतिक जागरण के साथ समाज सुधार और भाषा के नवोत्थान का उद्वेग देखनेको मिलता था । भारत की सभी भाषाओं में इसका प्रभाव परिलक्षित था । तमिल भाषा में भी नवजागरण की लहर छा गई । पत्र पत्रिकाओं ने इस दिशा में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई । इस कालखंड में पत्रिकाएँ कहानियों के लिए अधिक स्थान देने लगीं । कहानी लेखकों की संख्या में भी वृद्धि हुई । तदनुरूप पाठकों की भी संख्या बढ़ती गई ।

रा. कृष्णमूर्ति कल्कि पाठकों का मनोरंजन करने वाली ऐसी हास्य विनोदपूर्ण कहानियाँ लिखने के प्रयास में सफलतापूर्वक आगे बढ़ रहे थे, जो जीवन की गहरी समस्याओं से सर्वथा विलग रही थीं । कल्कि इस तरह की कहानियाँ लिखने वालों को आनंद विकटननामक पत्रिका में प्रोत्साहित भी करते थे । जो साहित्यकार इस तरह की विचार धारा और प्रवृत्ति से सहमत नहीं थे, वे सुतंतिर चकुं गांधी जैसी पत्रिकाओं में लिखने लगे । बाद में उन्होंने मणिक्कोडी नामक पत्रिका के माध्यम से अपनी सृजन क्षमता का प्रदर्शन किया । मणिक्कोडी जो डेढ़ वर्ष तक राजनीति, समाज और साहित्य तीनों क्षेत्रों पर केंद्रित रही, अब विशुद्ध रूप से कहानियों की पत्रिका के रूप में प्रकाशित होने लगी ।

कुछेक गिने चुने लेखक जो विश्व साहित्य में विशेष गति एवं क्षमता रखते थे, तमिल कहानी के क्षेत्र में नए प्रयोग करने के इच्छुक थे । ये लेखक उत्साहपूर्वक नए ढंग की कहानियाँ लिखने लगे और इस प्रयास में उन्हें मार्के की सफलता मिली । ऐसे कथाकारों के समूह में पुदुमैपित्तन अग्रणी रहे ।

पुदुमैपित्तन ने अपनी कहानियों के लिए चयनित विषयों में, उन्हें कथा के रूप में ढालने की कला में, कथन शैली की भंगिमा में जो उद्वेग और साहसिकता दिखाई, वह असाधारण एवं अनुकरणीय थी । विश्व साहित्य में उनकी जितनी अच्छी गति थी, प्राचीन तमिल साहित्य में भी उन्हें महारत हासिल थी । इसी पृष्ठभूमि में उन्होंने तमिल में शब्द सौष्ठव और अर्थ गांभीर्य से युक्त अनेक सुंदर कृतियों का सृजन किया ।

पुदुमैपित्तन ने कहानी, लघु उपन्यास, साहित्यिक निबंध, समीक्षा, एकांकी, कविता, आदि विविध विधाओं में सफलतापूर्वक क़लम चलाने के साथ साथ विश्व साहित्य की अनेक कहानियों को तमिल में अनूदित किया है । फिर भी कहानी में ही उन्होंने पूरी लगन के साथ अपनी सृजनात्मकता का प्रदर्शन किया और इसी विधा में उन्होंने नए नए प्रयोग किए । उनकी कहानियों के अंदर इस क़दर जादुई आकर्षण सन्निहित है कि पुदुमैपितन का नाम सुनते ही साहित्य प्रेमी पाठकों के मन में उनकी अद्भुत एवं अनोखी कहानियों की स्मृति उभर उठती है ।

 

अनुक्रम

1

पुरोवाक्

5

2

जीवन

9

3

कहानियाँ

24

4

निबंध

61

5

कविताएँ

65

6

कुछ खास जानकारियाँ

72

7

पुदुमैपितन का प्रभाव

77

8

परिशिष्ट पुदुमैपित्तन की रचनाएँ

79

Sample Pages




Post a Comment
 
Post Review
Post a Query
For privacy concerns, please view our Privacy Policy

Based on your browsing history

Loading... Please wait

Related Items

S. Radhakrishnan - Makers of Indian Literature
by Prema Nandakumar
Paperback (Edition: 2017)
Sahitya Akademi
Item Code: IDE129
$7.00
Add to Cart
Buy Now
Visvanatha Kaviraja (Makers of Indian Literature)
by Ananta Ch. Sukla
Paperback (Edition: 2011)
Sahitya Akademi
Item Code: NAJ863
$12.00
Add to Cart
Buy Now
Ganganatha Jha: Makers of Indian Literature (An Old and Rare Book)
by Prof. Hetukar Jha
Paperback (Edition: 1992)
Sahitya Akademi
Item Code: NAL391
$10.00
Add to Cart
Buy Now
Brahmarshi Sree Narayana Guru (Makers of Indian Literature)
Item Code: NAK271
$15.00
Add to Cart
Buy Now
Manohar Malgonkar (Makers of Indian Literature)
by Usha Bande
Paperback (Edition: 2016)
Sahitya Akademi
Item Code: NAN937
$15.00
Add to Cart
Buy Now
Mohammad Mujeeb (Makers of Indian Literature)
by Meher Fatima Hussain
Paperback (Edition: 2016)
Sahitya Akademi
Item Code: NAN934
$12.00
Add to Cart
Buy Now
Panditaraja Jagannatha - Makers of Indian Literature
by P. Sri Ramachandrudu
Paperback (Edition: 1991)
Sahitya Akademi
Item Code: IDE126
$10.00
Add to Cart
Buy Now
Valmiki (Makers of Indian Literature)
by ILAPVULURI PANDURANGA RAO
Paperback (Edition: 2017)
Sahitya Akademi
Item Code: IDG520
$15.00
Add to Cart
Buy Now
Mahamahopadhyaya Gopinath Kaviraj: Makers of Indian Literature (An Old and Rare Book)
by G. C. Pande
Paperback (Edition: 1996)
Sahitya Akademi
Item Code: NAL392
$10.00
Add to Cart
Buy Now
Anundoram Barooah: Makers of Indian Literature (An Old and Rare Book)
by Biswanarayan Shastri
Paperback (Edition: 1984)
Sahitya Akademi
Item Code: NAL394
$10.00
Add to Cart
Buy Now
Bhakta Kavi Gopala Krishna  (Makers of Indian Literature)
by Fakir Mohan Das
Paperback (Edition: 2002)
Sahitya Akademi
Item Code: IDH630
$6.50
SOLD
SHADAKSHARADEVA (Makers of Indian Literature)
by Chandramouli S. Naikar
Paperback (Edition: 1995)
Sahitya Akademi
Item Code: IDH614
$5.50
Add to Cart
Buy Now

Testimonials

Keep up the good work.
Harihar, Canada
I have bought Ganesh Bell in past and every visitors at my home has appreciated very much. You have quality product and good service. Keep it up with good business. This time I am buying Ganesh-Laxmi bells.
Kanu, USA
I am a long-time customer of Exotic India for gifts for me and friends and family. We are never disappointed. Your jewelry craftspeople are very skilled artists. You must treasure them. And we always look forward to the beautifully decorated boxes you use to ship your jewelry.
Diane, USA
I have always enjoyed browsing through the website. I was recently in south India, and was amazed to note that the bronze statues made in Kumbakonam and Thanjavur had similar pricing as Exotic India.
Heramba, USA
Thank you very much for your services. I ordered a Dhanvantari Deity from this site and it came quickly and in good condition. Now Sri Dhanvantari ji is worshipped regularly before seeing each client and in the offering of our medicinal products. Thanks again.
Max, USA
Thank you for shipping my 2 Books! Absolutli a great job in this short time, 3 working days from India to Switzerland it`s fantastic!!! You have won some new clients!
Ruedi, Switzerland
I am overwhelmed with the amount of hard-to-find Hindu scriptural texts that I have been able to locate on the Exotic India website as well as other authentic cultural items from India. I am impressed with your fast and reliable shipping methods.
Lee Scott, USA
Your service is excellent.
Shambhu, USA
Exotic India has the best selection of Hindu/Buddhist statues at the best prices and best shipping that I know of.I have bought many statues from them.I am thankful for their online presence.
Michael, USA
Thanks for sharpening our skills with wisdom and sense of humor.The torchbearers of the ancient deity religion are spread around the world and the books of wisdom from India bridges the gap between east and west.
Kaushiki, USA
TRUSTe
Language:
Currency:
All rights reserved. Copyright 2018 © Exotic India