गुरु नानक (भारतीय साहित्य के निर्माता) - Guru Nanak (Makers of Indian Literature)

गुरु नानक (भारतीय साहित्य के निर्माता) - Guru Nanak (Makers of Indian Literature)
Description Read Full Description
पुस्तके के बारे में गुरु नानक (1469-1539) सिख पंथ के प्रवर्तक थे । वे मध्यकालीन भारत के महान् आध्यात्मिक गुरुओं में से थे । उनके जीवन का लक्ष्य यह रहा कि कैसे परस्पर विरोधी सम्प्रदायों के बीच ...

पुस्तके के बारे में

गुरु नानक (1469-1539) सिख पंथ के प्रवर्तक थे । वे मध्यकालीन भारत के महान् आध्यात्मिक गुरुओं में से थे । उनके जीवन का लक्ष्य यह रहा कि कैसे परस्पर विरोधी सम्प्रदायों के बीच होनेवाले संघर्षो, जिनके चलते भारतीय समाज संत्रस्त था, को समाप्त कर परस्पर सद्भाव कायम किया जा सके । उनका संदेश कर्मकांडों तथा रूढ़ियों से परे उस परम विश्वास के मूल तक पहुँचना था जो परमात्मविवेक का सार-तत्त्व है - एक ऐसी राह, जो जीवन को उदात्त और सौहार्द-भाव से जोड सके, जो दूसरे सभी विश्वासों के प्रति सहिष्णु और दमितों के प्रति करुणापूर्ण बनी रहे तथा न्यायपूर्ण समाज की जोरदार हिमायत करे । गुरु नानक के ये ही आधारभूत सिद्धांत हैं । वे एक पुरोधा के रूप में कर्म-जीवन की संपूर्णता के द्रष्टा और आध्यात्मिकता एवं नैतिकता के हामी थे । वे एक ऐसे निर्दोष समाज के आग्रही थे, जो स्वार्थपूर्ण पुरोहित-प्रपचवाद और ऐहिक दबावों से ग्रस्त न हो सके ।

गुरु नानक की सीख मध्ययुगीन हिन्दी और पंजाबी की भक्ति कविताओं के रूप में सुरक्षित है । इन रचनाओं को विभिन्न राग-रागिनियों के साथ गाया जाता रहा है और ये भारतीय साहित्य की अमूल्य धरोहर हैं ।

लेखक परिचय

प्रस्तुत विनिबंध के लेखक प्रो गुरबचन सिंह तालिब (1911 -1987) पंजाबी और अंग्रेज़ी के लेखक, समालोचक और प्रसिद्ध विद्धान थे । वे कई साहित्यिक संस्थाओं से सबद्ध रहे । पंजाबी में प्रकाशित उनकी कृतियो में अन पच्छाते राह और पंजाबी वारतक तथा अंग्रेजी में गुरु नानक -हिज़ पर्सनैलिटि एंड विजन सेलेक्सन्ज फ्रॉम द होली ग्रंथ: जपुजी-द इम्मोर्टल चांट और गुरु तेगबहादुर मार्टअर एंड टीचर प्रमुख हैं । यह विनिबंध विशेष रूप से गैर-पंजाबी पाठकों के लिए लिखा गया है ।

 

 

अनुक्रम

1

जीवन ओर शिक्षण

7

2

गुरु नानक की समन्वय साधना

16

3

परब्रह्मा की उदात्त संकल्पना

20

4

प्रमुख रचनाएँ

28

5

भाषा और प्रभाव

33

6

कवि रूप में

37

7

नैतिक अन्वेषण

40

8

करुणा का संदेश

48

9

सामाजिक विवेक

54

10

देश के प्रति रागात्मक संवेदना

62

11

ईश्वरीय प्रेम की तन्मयता

68

12

योग के बारे में

76

13

आध्यात्मिक उत्कर्ष का साधना-पथ परिशिष्ट : ग्रंथ-सूची

80

 

Item Code: NZA281 Author: गुरुबचन सिंह तालिब (Gurubachan Singh Talib) Cover: Paperback Edition: 2012 Publisher: Sahitya Akademi ISBN: 9788126028733 Language: Hindi Size: 8.5 inch x 5.5 inch Pages: 87 Other Details: Weight of the Book: 135gms
Price: $7.00
Viewed 2591 times since 28th Mar, 2013
Based on your browsing history
Loading... Please wait

Items Related to गुरु नानक (भारतीय साहित्य... (Language and Literature | Books)

Creation of The Khalsa: Fulfilment of Guru Nanak’s Mission (Khalsa Tercentenary Commemorative Volume)
सिख विचारधारा- गुरु नानक से गुरु ग्रंथ साहब तक: Sikh Thought- From Guru Nanak to the Guru Granth Sahib
Guru Nanak (The First Sikh Guru)
Guru Nanak A Prophet with a Difference
विश्व शांति के अग्रदूत: गुरुनानक - Guru Nanak (Messenger of Peace)
गुरु नानकदेव (क्रांतिकारी महामानव): Guru Nanak Dev
A Guru Nanak Glossary
Sri Caitanya and Guru Nanak (A Comparative Study of Vaisnavism and Sikhism) - An Old and Rare Book
गुरु नानक देव (जीवन और दर्शन): Guru Nanak Dev His Life and Philosophy
Guru Nanak: His Mystic Teachings
Guru Nanak's Japuji (A Look Anew) (Hini Text with Transliteration and English Translation)
Thus Spake Guru Nanak
The Miraculous Life of Baba Siri Chand Ji Loving Son, and True follower, of Guru Nanak Devji
Guru Nanak (The Enlightened Master)
सुन्दर गुटका: गुरु नानक वाणी - Sundar Gutaka (Voice of Guru Nanak)
Testimonials
Excellent products and efficient delivery.
R. Maharaj, Trinidad and Tobago
Aloha Vipin, The books arrived today in Hawaii -- so fast! Thank you very much for your efficient service. I'll tell my friends about your company.
Linda, Hawaii
Thank you for all of your continued great service. We love doing business with your company especially because of its amazing selections of books to study. Thank you again.
M. Perry, USA
Kali arrived safely—And She’s amazing! Thank you so much.
D. Grenn, USA
A wonderful Thangka arrived. I am looking forward to trade with your store again.
Hideo Waseda, Japan
Thanks. Finally I could find that wonderful book. I love India , it's Yoga, it's culture. Thanks
Ana, USA
Good to be back! Timeless classics available only here, indeed.
Allison, USA
I am so glad I came across your website! Oceans of Grace.
Aimee, USA
I got the book today, and I appreciate the excellent service. I am 82, and I am trying to learn Sanskrit till I can speak and write well in this superb language.
Dr. Sundararajan
Wonderful service and excellent items. Always sent safely and arrive in good order. Very happy with firm.
Dr. Janice, Australia