Booksगु...

गुरु प्रसाद: Guru Prasad (Bhajan)

Description Read Full Description
आत्म निवेदन मैं न तो कोई लेखक हूँ, न कोई कवि या गीतकार | मुझे तो यह भी ज्ञान नहीं कि भजन क्या होता है, गीत या ग़ज़ल किसे कहते हैं | जो गुरु कृपा से हृदय में भाव उदय हुआ उसे वैसा ही लिख दिया | क्यों...

आत्म निवेदन

मैं न तो कोई लेखक हूँ, न कोई कवि या गीतकार | मुझे तो यह भी ज्ञान नहीं कि भजन क्या होता है, गीत या ग़ज़ल किसे कहते हैं | जो गुरु कृपा से हृदय में भाव उदय हुआ उसे वैसा ही लिख दिया | क्योंकि श्रीमद् आघशंकराचार्य के शब्दों में (शिवमानस स्त्रोत ) " आत्मलम गिरिजामति" तब फिर शब्द या भाव मेरे कहा से हुए? अपना कहना तो चौर्य कर्म हुआ | मेरी पढाई लिखाई भी कुछ खास नहीं हुई | लेखन माधयम भी आंग्ल भाषा थी | यह तो गुरुदेव कि महिती कृपा थी कि उन्होंने हिंदी लिखना सिखा दिया | मैने कभी सोचा भी नहीं था कि कभी कुछ और वह भी भजन या गीत कुछ भी कहिये लिख पाऊँगा | यह तो एक बार श्री गुरु महाराज जी श्री रामनाथ जो के यँहा मुलुण्ड-मुम्बई में ठहरे हुए थे और श्री गुरुग्रंथ साहिब पर रामनाथ जी कि बहन को लिखवा रहे थे | मैं पास में निठल्ला बैठा था कि अचानक श्री गुरु महाराज ने मुझे संबोधित कर कहा "चलो भजन लिखो" | मेरे प्राण सूख गये- पसीना आ गया | फिर प्रयास किया चार- छ: लाइन लिखी | श्री गुरु महाराज ने पढ़ा और कहा "यह तो एक भजन बन गया | "अब लिखने का प्रयास जारी रखो | तुम थोड़े ही लिखोगे | माँ भगवती कि कृपा हैं | वह स्वयं लिखवाती हैं | यह मेरा प्रथम अनुभव था कि गुरु कृपा चाहे जिससे कुछ भी सामर्थ्य प्रदान कर करवा सकती हैं |

यहाँ एक प्रसंग और लिखना चाहूँगा | जब गुरु महाराज देवास आश्रम में थे तो मैं रात को सोने से पहले प्रणाम करने जाता था | एक रोज गया तो रसोई का दरवाजा बंद था | शायद महाराज भोजन कर रहे होंगे, यह सोचकर बाहर से प्रणाम कर के खड़ा रहा | अंदर श्री गुरु महाराज से किसी ने कहा गोपाल स्वामी जी भजन लिखते हैं वह अपना नाम नहीं लिख कर आपका नाम क्यों लिखते हैं | श्री गुरु महाराज ने श्री गुरु ग्रन्थ साहिब का उदाहरण देते कहा कि उसमे पहला महला, दूसरा महला, चौथा महला पाँचवा महला, नवमां महला | इसका अर्थ हैं कि पहला महला तो स्वयं श्री गुरु नानकदेवजी ने लिखा हैं | बाकि उनके उपरांत आये गुरुओं ने लिखा | किंतु किसी ने अपना नाम नहीं लिखा | क्योंकि वे समझ गये थे कि शक्ति तो श्री नानक देव जी कि हैं अतः सबने शबद के अंत में अपना नाम देने के स्थान पर लिखा कह नानक नानक ही तो असली शक्ति थी जो लिखा रही थी | इसी कारण गोपाल स्वामी अपना नाम नहीं देते | पर भजन पढ़ने वाला समझ जाता हैं कि गोपाल स्वामी ने तो लिखा भर हैं | लिखवाया तो गुरु शक्ति ने |

 





Sample Pages








Item Code: NZJ460 Author: गोपाल तीर्थ (Gopal Tirtha) Cover: Paperback Edition: 2004 Publisher: Yog Shri Peeth Ashram, Rishikesh Language: Hindi Size: 8.5 inch X 5.5 inch Pages: 144 Other Details: Weight of the Book: 140 gms
Price: $16.00
Best Deal: $12.80
Shipping Free
Be the first to review this product
Viewed 13493 times since 14th Nov, 2018
Based on your browsing history
Loading... Please wait

Items Related to गुरु प्रसाद: Guru Prasad (Bhajan) (Hindi | Books)

भजन गंगा: Bhajan Ganga (Kirtan Bhajan Lahari)
भजन संग्रह: Bhajan Samgrah (A Collection of 974 Bhajans )
भजन - कीर्तन: Bhajan Kirtan
गुरुदेव कुटीर में भजन कीर्तन: Bhajan Kirtan in Gurudeva's Kutir
फिल्मी भजन-माला: Filmy Bhajan Mala (With Notation)
मोहन मोहनी: Mohan Mohani (Collection of Bhajans)
भजन संगीत सुधा: Bhajan Sangeet Sudha (With Notations)
151 धार्मिक हिट भजनों की स्वर लिपियाँ: 151 Hit Bhajans With Notations
भजन सरोवर: Bhajan Sarovar
कीर्तन सागर: Kirtan Sagar
कबीर भजन संग्रह: Collection of Kabir Bhajans
श्री शंकरदेव कीर्तन घोषा: Kirtan Ghosa of Shri Shankaradeva
श्री गौर ब्रज माधुरी भजन संग्रह: Shri Gaura Vraja Madhuri Bhajan Collection
भजन सागर: Bhajan Sagar
पुष्टि संगीत प्रकाश: Pushti Sangeet Prakash - Kirtan Sangeet (With Notation)
Testimonials
Namaste and many thanks! Lovely collection you have! Tempted to buy so many books!
Revathi, USA
I received my order. Thanks for giving the platform to purchase artifacts of our culture. You guys are doing a great job. Appreciate it and wish you guys the best.
Manju, USA
Fantastic! Thank You for amazing service and fast replies!
Sonia, Sweden
I’ve started receiving many of the books I’ve ordered and every single one of them (thus far) has been fantastic - both the books themselves, and the execution of the shipping. Safe to say I’ll be ordering many more books from your website :)
Hithesh, USA
I have received the book Evolution II.  Thank you so much for all of your assistance in making this book available to me.  You have been so helpful and kind.
Colleen, USA
Thanks Exotic India, I just received a set of two volume books: Brahmasutra Catuhsutri Sankara Bhasyam
I Gede Tunas
You guys are beyond amazing. The books you provide not many places have and I for one am so thankful to have found you.
Lulian, UK
This is my first purchase from Exotic India and its really good to have such store with online buying option. Thanks, looking ahead to purchase many more such exotic product from you.
Probir, UAE
I received the kaftan today via FedEx. Your care in sending the order, packaging and methods, are exquisite. You have dressed my body in comfort and fashion for my constrained quarantine in the several kaftans ordered in the last 6 months. And I gifted my sister with one of the orders. So pleased to have made a connection with you.
EB Cuya FIGG, USA
Thank you for your wonderful service and amazing book selection. We are long time customers and have never been disappointed by your great store. Thank you and we will continue to shop at your store
Michael, USA