BooksHindiका...

कालजयी उज्जयिनी: Kalajai Ujjaini (A Most Comprehensive History of Ujjain)(Set of 3 Volumes)

Description Read Full Description
Part I लेखक परिचय डॉ. रमेश निर्मल ऊर्जावान और प्रखर पत्रकार है | मध्यप्रदेश के देवास जिले के नेवारी ग्राम में २४ जून १९५० को जन्मे | उज्जैन और इंदौर में शिक्षा-दीक्षा तथा शिलांग (मेघालय) में उच्च अ...
Part I


लेखक परिचय

डॉ. रमेश निर्मल ऊर्जावान और प्रखर पत्रकार है | मध्यप्रदेश के देवास जिले के नेवारी ग्राम में २४ जून १९५० को जन्मे | उज्जैन और इंदौर में शिक्षा-दीक्षा तथा शिलांग (मेघालय) में उच्च अनुसंधान कार्य | वाणिज्य और विधि में स्नातक तथा हिन्दी एवं समाज विज्ञान में स्नातकोत्तर | नेहु (मेघालय) से 'पूर्वोत्तर भारत में अलगाववादी प्रवृत्तियाँ: एक सामाजिक अनुशीलन' विषय पर विख्यात समाज वैज्ञानिक डॉ. श्यामाचरण दुबे के निर्देशन में शोध प्रबंध पर डॉक्टरेट | विविध आयामी रुचियों में संपन्न लेखन और अनुसंधान में सक्रीय | प्रमुख कृतियाँ : आक्रोश, प्रेरणा, दिशा, यात्रा, पश्चिम निमाड़, बस्तर : जैसा मैंने देखा, सोनार बांग्ला, मध्यप्रदेश : एक टूरिस्ट नज़र, सात बहने, पूर्वोत्तर में अलगाव, अनादि उज्जयिनी | १९९२ में सिंहस्थ महापर्व के अवसर पर प्रधानमंत्री श्री पी. वी. नरसिंहराव द्वारा केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री श्री अर्जुन सिंह एवं मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री श्री सुंदरलाल पटवा की उपस्थिति में 'अनादि उज्जयिनी' ग्रन्थ का लोकार्पण | संपादन : तिस से अधिक साहित्यिक, सांस्कृतिक, सामाजिक और राजनितिक पत्रिकाओं का संपादन-पकाशन | १९६७ से पत्रकारिता के क्षेत्र में निरंतर क्रियाशील | 'प्रभात किरण' एवं अन्तर्द्वन्द्व साप्ताहिक के बाद इंदौर के 'नईदुनिया'में संवाददाता| १९७६ में मुंबई से प्रकाशित 'करंट' साप्ताहिक के सहायक संपादक | अस्सी के दशक ,इ टाइम्स ऑफ़ इंडिया प्रकाशन समूह के नवभारत टाइम्स से सम्बंद्ध | नवभारत टाइम्स के मुंबई और नई दिल्ली संस्करण के प्रमुख संवाददाता एवं गुवाहाटी से प्रकाशित पूर्वोत्तर भारत संस्करण के प्रमुख रहे | मुंबई से हिन्दी के पहले राष्ट्रीय आर्थिक साप्ताहिक 'अर्थ चेतना' का संपादन | के. के. बिड़ला फाउंडेशन (हिंदुस्तान टाइम्स प्रकाशन समूह) की प्रतिष्ठित फैलोशिप के अंतर्गत 'भारतीय पूंजी बाजार में निवेशकों की दशा-दुर्दशा' विषय पर शोड अध्ययन | भारत सहित विदेशी पूंजी बाजार अमेरिका, ब्रिटेन, जापान, चीन, इटली, मलेशिया, सिंगापुर, हाँगकाँग और थाईलैंड की यात्रा कर वहां के स्टॉक एक्सचेंजों का तुलनात्मक अध्ययन | १९९७ में प्रधानमंत्री श्री अटलबिहारी वाजपेयी द्वारा 'बनारस बिड्स' की और से देश का पहला राष्ट्रिय आर्थिक पत्रकारिता पुरस्कार | कशी विद्यापीठ के कुलपति एवं संस्कृति मर्मज्ञ डॉ. विद्यानिवास मिश्र 'सारस्वत सम्मान' से सम्मानित | सम्प्रति " राष्ट्रिय हिन्दी समाचार व् फीचर एजेंसी 'करंट समाचार एवं विचार सीएमजी', 'करंट टीवी न्यूज़ एंड नेटवर्क' के प्रमुख व् 'करंट ' पत्रिका के प्रधान संपादक |




Part II


Part III


Sample Pages

Part I


Part II


Part III


Item Code: NZF972 Author: डॉ. रमेश निर्मल (Dr. Ramesh Nirmal) Cover: Hardcover Edition: 2005 Publisher: Maharshi Sandipani Rashtriya Veda Vidya Pratishthan ISBN: 8189190016 Language: Hindi Size: 9.0 inch X 6.0 inch Pages: 3618 (Throughout B/W Illustrations) Other Details: Weight of the Book: 4.9 kg
Price: $255.00
Shipping Free - 4 to 6 days
Viewed 5014 times since 14th Jun, 2016
Based on your browsing history
Loading... Please wait

Items Related to कालजयी उज्जयिनी: Kalajai Ujjaini (A Most... (Hindi | Books)

Sacred Complex of Ujjain
Ujjain (The City of Temples)
Ujjain (Travel Guide)
KALIDASA (The Man and The Mind)
Bhasa
Kumbh - Mahakumbh (Mythological, Spiritual and Practical)
Juridical Studies in Kalidasa
ऋग्वेदसंहिता: Rigveda Samhita (Sankhayan) With Padapatha (Set of 4 Volumes)
मेघसन्देश: Meghasandesa of Kalidasa with Twelve Sanskrit Commentaries (Text and English Translation)
The Four Vedas with Spiritual Translation (Set of 22 Volumes) - Sanskrit Text with English Translation
Glory of Jaina Tirthankaras
Seamless Boundaries: Lutfullah's Narrative beyond East and West
Time Tested Techniques of Mundane Astrology (With Over 100 Illustration)
Parasara Tantra: Ancient Sanskrit Text on Astronomy and Natural Science (Reconstructed Text with Translation and Notes)
Testimonials
Thank you for such wonderful books on the Divine.
Stevie, USA
I have bought several exquisite sculptures from Exotic India, and I have never been disappointed. I am looking forward to adding this unusual cobra to my collection.
Janice, USA
My statues arrived today ….they are beautiful. Time has stopped in my home since I have unwrapped them!! I look forward to continuing our relationship and adding more beauty and divinity to my home.
Joseph, USA
I recently received a book I ordered from you that I could not find anywhere else. Thank you very much for being such a great resource and for your remarkably fast shipping/delivery.
Prof. Adam, USA
Thank you for your expertise in shipping as none of my Buddhas have been damaged and they are beautiful.
Roberta, Australia
Very organized & easy to find a product website! I have bought item here in the past & am very satisfied! Thank you!
Suzanne, USA
This is a very nicely-done website and shopping for my 'Ashtavakra Gita' (a Bangla one, no less) was easy. Thanks!
Shurjendu, USA
Thank you for making these rare & important books available in States, and for your numerous discounts & sales.
John, USA
Thank you for making these books available in the US.
Aditya, USA
Been a customer for years. Love the products. Always !!
Wayne, USA