हिन्दी काव्यमीमांसा: Kavya Mimamsa of Rajasekhara

Description Read Full Description
वक्तव्य काव्य के साथ ही काव्यशास्त्र वा साहित्यशास्त्र का उद्भव भी सम्बद्ध है। इस शाख का विकास और परिष्कार लगभग दो सहस्र वर्षों से होता आया है साहित्यशास्त्र के आचार्यों में काव्यमी...

वक्तव्य

काव्य के साथ ही काव्यशास्त्र वा साहित्यशास्त्र का उद्भव भी सम्बद्ध है। इस शाख का विकास और परिष्कार लगभग दो सहस्र वर्षों से होता आया है साहित्यशास्त्र के आचार्यों में काव्यमीमांसा के प्रणेता महाकवि राजशेखर का स्थान महत्वपूर्ण है। राजशेखर का व्यक्त्वि बहुमुखी था-नाटककार, कवि और साहित्यशात्री इन सभी रूपों में उन्होंने महत्वपूर्ण कार्य किया है। इनकी काव्यमीमांसा साहित्यशास्र की एक प्रौढ कृति है। इस ग्रन्थ में उन्होंने पूर्वप्रचलित सिद्धान्तों का कुशलता से उपन्यास किया, साधिकार समीक्षा की और यथास्थान अपने सूविचारित मत की स्थापना की। काव्यमीमांसा एक आकर-ग्रन्थ है जिसमें विभिन्न विषयों का विवेचन किया गया है। कवियों के लिये यह व्यावहारिक मार्ग का निर्देश करता है। इस ग्रन्थ का विशिष्ट ऐतिहासिक महत्व भी है। इसमें बहुत से कवियों एवं आचार्यो के नाम-निर्देश के साथ मत-निर्देंश भी किया गया है। इससे तत्तत् कवियों तथा आचार्यो के काल की अन्तिम सीमा निर्धारित की जा सकती है। भौगोलिक नामों से प्राचीन भौगोलिक स्थानों को ज्ञात करने में सरलता होगी।

प्रस्तुत संस्करण में इस महनीय ग्रन्थ का हिन्दी अनुवाद प्रस्तुत किया गया है। स्थान-स्थान पर मूल अनुवाद के साथ टिप्पणियों जोड़ दी गई है जिससे अनुवाद को समझने में सरलता हो तथा मूल के तुलनात्मक रूप का भी ज्ञान हो । प्रारम्भ में राजशेखर के जीवन-वृत्त, कर्तृत्व, महत्व आदि के विषय में एक विस्तृत भूमिका है। अन्त में परिशिष्टों को जोड़ा गया है। आशा है इस रूप में यह अधिक उपादेय तथा ग्राह्य होगा इस कार्य में जिन लोगों से प्रेरणा और प्रोत्साहन प्राप्त हुआ है उनमें प्रमुख हैं श्रद्धेय गुरुवर्य आचार्य पं० बलदेव उपाध्याय। आपका निर्मल व्यत्तित्व, प्रकृष्ट पाण्डित्य, सौजन्य तथा वात्सल्य सदैव प्रेरक रहा है। मैं अपने इस प्रयास को श्रद्धासुमन के रूप में उन्हीं को समर्पित कर रहा हूँ। चौखम्बा विद्याभवन के उदीयमान संचालक-गण मेरे धन्यवाद के पात्र हैं जिनके प्रयास से यह ग्रन्थ शीघ्र प्रकाशित हो सका है।

 

विषय-सूची

 

वक्तव्य

1

 

प्रस्तावना

1

 

भूमिका

21

1

प्रवेश

21

2

राजशेखर के पूर्ववर्ती आचार्य

23

3

राजशेखर : जीवनवृत्त

35

4

राजशेखर के ग्रन्थ

40

5

राजशेखर की प्रशस्तियाँ

49

6

काव्यमीमांसा का विषयसार

50

 

काव्यमीमांसा

 

7

प्रथम अध्याय : शास्त्रसंग्रह

1

8

द्वितीय अध्याय : शास्त्रनिर्देंश

4

9

तृतीय अध्याय : काव्यपुरुषोत्पत्ति

12

10

चतुर्थ अध्याय : शिष्यप्रतिभे

23

11

पंचम अध्याय : व्युत्पत्तिविपाक

34

12

षष्ठ अध्याय : पदवाक्यविवेक

47

13

सप्तम अध्याय : वाक्यविधि

64

14

अष्टम अध्याय : वाक्यर्थयोनि

78

15

नवम अध्याय : अर्थानुशासन

94

16

दशम अध्याय : कविचर्या

109

17

एकादश अध्याय : शब्दार्थहरणोपाय

121

18

द्वादश अध्याय : अर्थहरणोपाय

133

19

त्रयोदश अध्याय : आलेख्यप्रख्यभेद

146

20

चतुर्दश अध्याय : कविसमय

166

21

पच्चदश अध्याय : गुणसमयस्थापना

176

22

षोडश अध्याय : कविरहस्य

183

23

सप्तदश अध्याय : देशकालविभाग

190

24

अष्टादश अध्याय : कालविभाग

209

 

परिशिष्ट

 

25

(क) ऐतिहासिक टिप्पणियाँ

233

26

(ख) भौगोलिक स्थान

243

27

(ग) काव्यमीमांसा के उपजीव्य ग्रन्थ

265

28

(घ) काव्यमीमांसा का परवर्ती साहित्यशास्त्र में उपयोग

266

29

(ङ) श्लोकानुक्रमणी

267

Sample Page


Item Code: NZD265 Author: श्री राजशेखर (Shri Rajashekhar) Cover: Hardcover Edition: 2007 Publisher: Chowkhamba Vidya Bhawan Language: Sanskrit Text with Hindi Translation Size: 8.5 inch X 5.5 inch Pages: 282 Other Details: Weight of the Book: 540 gms
Price: $25.00
Viewed 6545 times since 9th Apr, 2018
Based on your browsing history
Loading... Please wait

Items Related to हिन्दी काव्यमीमांसा: Kavya... (Language and Literature | Books)

काव्यमीमांसा (संस्कृत एवं हिन्दी अनुवाद) - Kavya Mimamsa of Rajasekhara
बालभारतम् (संस्कृत एवम् हिन्दी अनुवाद) - Balabharatam of Rajasekhara
राजशेखर और उनका युग: Rajasekhar and His Era (An Old and Rare Book)
कर्पूरमन्जरी: Karpuramanjari of Rajasekhar
विध्दशालभञ्जिका (संस्कृत एवं हिंदी अनुवाद) - Viddhasalabhanjika of Rajasekhara
Creative Writing in Sanskrit (Studies in Rajasekhara's Kavyamimamsa)
बालरामायणम् (संस्कृत एवम् हिन्दी अनुवाद): Bala Ramayana of Rajasekhara
बालरामायणम् (संस्कृत एवम् हिन्दी अनुवाद): Bala Ramayana of Rajasekhara
Kavyamimamsa of Rajasekhara (original Text in Sanskrit and Translation with Explanatory Notes)
The Color Guide to Govardhana Hill India's Most Sacred Mountain
The Color Guide to Radha Kunda (The Holiest of All Holy Places)
The Chalukyas of Badami
The Color Guide to Vrndavana (India's Most Holy City of Over 5,000 Temples)
योगवासिष्ठ: The Yogavasistha of Valmiki : With the Commentary Vasistha Maharamayana Tatparyaprakasa (Volume I and II): Sanskrit Only
Testimonials
Kailash Raj’s art, as always, is marvelous. We are so grateful to you for allowing your team to do these special canvases for us. Rarely do we see this caliber of art in modern times. Kailash Ji has taken the Swaminaryan monks’ suggestions to heart and executed each one with accuracy and a spiritual touch.
Sadasivanathaswami, Hawaii
Good selections. and ease of ordering. Thank you
Kris, USA
Thank you for having books on such rare topics as Samudrika Vidya, keep up the good work of finding these treasures and making them available.
Tulsi, USA
Received awesome customer service from Raje. Thank You very much.
Victor, USA
Just wanted to let you know the books arrived on Friday February 22nd. I could not believe how quickly my order arrived, 4 days from India. Wow! Seeing the post mark, touching and smelling the books made me long for your country. Reminded me it is time to visit again. Thank you again.
Patricia, Canada
Thank you for beautiful, devotional pieces.
Ms. Shantida, USA
Received doll safely and gift pack was a pleasant surprise. Keep up the good job.
Vidya, India
Thank you very much. Such a beautiful selection! I am very pleased with my chosen piece. I love just looking at the picture. Praise Mother Kali! I'm excited to see it in person
Michael, USA
Hello! I just wanted to say that I received my statues of Krishna and Shiva Nataraja today, which I have been eagerly awaiting, and they are FANTASTIC! Thank you so much, I am so happy with them and the service you have provided. I am sure I will place more orders in the future!
Nick, USA
Excellent products and efficient delivery.
R. Maharaj, Trinidad and Tobago