BooksHindiज्...

ज्योतिषीय खगोल एवं गणित सिद्धांत: Theory of Astronomy and Mathematics Astrology

Description Read Full Description
पुस्तक परिचय सृष्टि के अभ्युदय के उपरांत मानव समुदाय में महत्वाकांक्षा जागृत हुई जिसके परिणामस्वरूप लोगो में आगामी जीवन के विषय में जानने की इच्छा बलवती हुई | इसी उत्कंठा के शमन के उदे...

पुस्तक परिचय

सृष्टि के अभ्युदय के उपरांत मानव समुदाय में महत्वाकांक्षा जागृत हुई जिसके परिणामस्वरूप लोगो में आगामी जीवन के विषय में जानने की इच्छा बलवती हुई | इसी उत्कंठा के शमन के उदेश्य से विभिन्न प्रकार के फलस्वरूप की पद्धतियों का विकास हर सभ्यता में हुआ | विकास के क्रम में ही खगोल के सिद्धांत विकसित होते गए जिसे निश्चित रूप से भौतिकशास्त्र एवं गणित से भी महती सहायता प्राप्त हुई | वर्तमान में प्रचलित ज्योतिष शास्त्र का प्रमुख आधार ही खगोलीय एवं गणितीय गणनाएं है | जन्म समय की खगोलीय स्थति के आधार पर ही गणितीय गणना कर किसी जातक की जन्मकुंडली का निर्माण किया जाता है |

प्रस्तुत पुस्तक की रचना पाठको को ज्योतिष से सम्बृद्ध आवश्यक खगोलीय एवं गणितीय गणनाओं से परिचित कराने के उदेश्य से की गई है | इस पुस्तक में ज्योतिषीय खगोल एवं गणित के हर सूक्ष्म एवं विशद् सिद्धांत समाविष्ट है जिनका विवेचन बिल्कुल सरल रूप में उदाहरण के साथ स्पष्ट किया गया है |

पुस्तक की शुरुआत ज्योतिष एवं खगोल के इतिहास के साथ की गई है जिसमे हर काल में क्या प्रगति हुई है तथा उस समय के उल्लेखनीय विद्धानों के क्या योगदान है, इसका उल्लेख किया गया है | दूसरे अध्याय में भचक्र परिचय के साथ-साथ खगोल के प्रमुख सिद्धांतो का विवेचन किया गया है | तीसरी अध्याय में सौरमंडल में स्थित ग्रहों, तारो, नक्षत्रों, उपग्रहों, उल्काश्मों, उल्कापिंडों आदि का वर्णन एवं ज्योतिष से उनके संबंधों की व्यख्या की गई है | चौथे अध्याय में समय की गणना है जिसमे प्राचीन से लेकर आधुनिक समय में प्रचलित सार्वभौमिक समय के मापदंडों की व्यख्या तथा उनके अन्तसम्बन्धो की व्याख्या दी गई है | पांचवें अध्याय में पंचांग के घटक का वितरण है जिसका उपयोग मुख्य्ता: मुहूर्त निधार्रण के लिए किया जाता है | इसी प्रकार छठे अध्याय में कुंडलियों के प्रकार, सातवें अध्याय में कुंडली निर्माण की पद्धति, आठवें अध्याय में षोडश वर्गों की गणना, नवे अध्याय में भाव एवं चलित कुंडली तथा दसवें अध्याय में ज्योतिष में सर्वाधिक प्रचलित विंशोत्तरी दशा की गणना आदि सरल एवं स्पष्ट रूप में समझाई गई है |

 







Sample Pages
















Item Code: NZJ617 Author: डॉ. मनोज कुमार और डॉ. सुशील अग्रवाल(Dr. Manoj Kumar and Dr. Sushil Agarwal) Cover: Paperback Edition: 2016 Publisher: Sagar Publications ISBN: 9788170822127 Language: Hindi Size: 8.0 inch x 5.5 inch Pages: 318 (30 B/W Illustrations) Other Details: Weight of the Book: 395 gms
Price: $20.00
Shipping Free
Viewed 4921 times since 22nd Apr, 2019
Based on your browsing history
Loading... Please wait

Items Related to ज्योतिषीय खगोल एवं गणित... (Hindi | Books)

खगोल एवं गणित ज्योतिष: Astronomy and Mathematical Astrology
ब्रह्माण्ड दर्शनम्: A Treatise on Hindu Astronomy
सिध्दान्ततत्त्वविवेक Siddhanta Tattva Viveka of Kamalakar Bhatt (Set of 3 Volumes): An Ancient Text on Hindu Astronomy and Astrology
आर्यभटीयम - Aryabhatiyam of Aryabhat: An Ancient Text on Hindu Astronomy and Astrology
सिध्दान्तशिरोमणे - गोलाध्याय (संस्कृत एवं हिन्दी) - Goladhyaya Bhaskaracharya's Treatise on Astronomy with a Commentary
पन्चसिध्दान्तिका संस्कृत एवम् हिन्दी अनुवाद: The Panchasiddhantika of Varahamihira - An Ancient Text on Hindu Astronomy and Astrology
ब्रह्मगुप्तगणितम्: Brahmagupta's Ganita (Ganitadhyaya of Brahmasphuta Siddhanta)
सिद्धान्त दर्पण (संस्कृत एवं हिंदी अनुवाद)- Siddhant Darpan
भाभ्रमरेखानिरूपणम्: Bhabhrama Rekha Nirupanam
Nigamakalpataru: Dr. Gautam Patel Felicitation Volume on Vedic Studies (Part: 2 - Hindi)
श्री शिवमहापुराणम्: The Shiva Purana (Set of 2 Volumes)
पिंगल कृत छन्द:सूत्रम: The Prosody of Pingala - A Treatise of Vedic and Sanskrit Metrics with Applications of Vedic Mathematics
पिंगल कृत छन्द:सूत्रम The Prosody of Pingala - A Treatise of Vedic and Sanskrit Metrics with Applications of Vedic Mathematics
पंडित परिषद् व्याख्यानमाला: A Collection of Papers
Testimonials
Thank you for such wonderful books on the Divine.
Stevie, USA
I have bought several exquisite sculptures from Exotic India, and I have never been disappointed. I am looking forward to adding this unusual cobra to my collection.
Janice, USA
My statues arrived today ….they are beautiful. Time has stopped in my home since I have unwrapped them!! I look forward to continuing our relationship and adding more beauty and divinity to my home.
Joseph, USA
I recently received a book I ordered from you that I could not find anywhere else. Thank you very much for being such a great resource and for your remarkably fast shipping/delivery.
Prof. Adam, USA
Thank you for your expertise in shipping as none of my Buddhas have been damaged and they are beautiful.
Roberta, Australia
Very organized & easy to find a product website! I have bought item here in the past & am very satisfied! Thank you!
Suzanne, USA
This is a very nicely-done website and shopping for my 'Ashtavakra Gita' (a Bangla one, no less) was easy. Thanks!
Shurjendu, USA
Thank you for making these rare & important books available in States, and for your numerous discounts & sales.
John, USA
Thank you for making these books available in the US.
Aditya, USA
Been a customer for years. Love the products. Always !!
Wayne, USA