जीने के लिये: Jeene ke liye
Look Inside

जीने के लिये: Jeene ke liye

FREE Delivery
$19.20
$24
(20% off)
Quantity
Ships in 1-3 days
Item Code: NZA905
Author: राहुल सांकृत्यायन (Rahul Sankrityayan)
Publisher: Kitab Mahal
Language: Hindi
Edition: 2013
ISBN: 9788122500813
Pages: 259
Cover: Paperback
Other Details 8.5 inch X 5.5 inch
Weight 250 gm

पुस्तक के विषय में

डेढ़ साल हुए, जबकि ''जीने के लिए'' के लिखने का ख्याल आया था, लेकिन शायद अब भी वह कागज पर आता, यदि छपरा जेल में ढाई मास रहने का अवसर मिलता। यह मेरा पहला उपन्यास है, यदि ''बाईसवीं सदी'' को उस श्रेणी से हटा दें। कितने ही मित्रों को ताज्जुब होगा, कितने मेरे नासिखियापन तथा दूसरे दोषों के कारण हँसेंगे; तो भी कलम को रोकना आसान था, इसलिए इस अनाधिकार चेष्टा के लिए पाठक क्षमा करेंगे।

अनुक्रम

1

बाल्य स्मृति

1

2

माँ-बाप

5

3

अनाथ लड़का

13

4

गाँव का त्याग

17

5

कलकत्ता में

22

6

सेठ का नौकर

27

7

पुस्तकालय का चपरासी

31

8

सत्संग और शिक्षा

35

9

आतंकवाद से असहमत

40

10

मित्र का अन्त

46

11

फिर गाँव में

51

12

पल्टन में भर्ती

55

13

शिकार और उपकार

61

14

रेल यात्रा

67

15

हिमालय

73

16

महायुद्ध

77

17

युद्ध क्षेत्र को

83

18

युद्ध में घायल

89

19

अस्पताल में

96

20

दुबारा घायल

104

21

परिचय

109

22

प्रेम

116

23

वृद्धा का वात्सल्य

124

24

मित्र गोष्ठी

129

25

मोटर ड्राइवर

135

26

कोयले की फेरी

141

27

प्रेम और आदर्श

149

28

उत्तराधिकार

156

29

स्वदेश में

162

30

एक बार फिर गाँव में

168

31

स्वयंसेवक को सजा

176

32

शिक्षित-अशिक्षित

182

33

षड्यन्त्र

191

34

जेल यातना

197

35

कोयले की खान

210

36

अज्ञातवास समाप्त

221

37

पुनर्मिलन

228

38

देश-विदेश

238

39

अवसान

248

 

 

 

 

sample Page

Add a review
Have A Question

For privacy concerns, please view our Privacy Policy

CATEGORIES