मनुस्मृति (संस्कृत एवं हिंदी अनुवाद)- Manu Smrti (With Simple Translation in Hindi)

Best Seller
FREE Delivery
$22.27
$33
(10% + 25% off)
Quantity
Delivery Ships in 1-3 days
Item Code: NAI750
Author: सुरेन्द्रनाथ सक्सेना (Surendra Natha Saxena)
Publisher: Manoj Publications, Delhi
Language: Sanskrit Text with Hindi Translation
Edition: 2014
ISBN: 9788181333377
Pages: 528
Cover: Paperback
Other Details 8.5 inchX 5.5 inch
Weight 580 gm
Fully insured
Fully insured
Shipped to 153 countries
Shipped to 153 countries
More than 1M+ customers worldwide
More than 1M+ customers worldwide
100% Made in India
100% Made in India
23 years in business
23 years in business

पुस्तक के विषय में

व्यक्ति और समाज के बीच संतुलन रहे तभी सुख समृद्धि और शांति की आशा की जा सकती है | व्यवस्था का उद्देश्य इसी संतुलन को बनाना और बनाए रखना है | व्यवस्था के लिए आवश्यकता होती है एक ऐसी आचार संहिता की जो निष्पक्ष भाव से समाज की प्रत्येक इकाई के साथ न्याय कर सके | महाराज मनु ने अपने इस ग्रंथ मनुस्मृति में कुछ इसी प्रकार की व्यवस्था का प्रतिपादन किया है | यद्द्पि समय की बदलती धारा के साथ इस ग्रंथ की कुछ व्यवस्थाएं विवादास्पद है और अब अपना अर्थ खो चुकी है फिर भी भारतीय आचार संहिता का आधारभूत ग्रंथ है यह मनुस्मृति |

बिना पढ़े समझे क्योंकि किसी ग्रंथ पर एक स्वस्थ बहस नही हो सकती इसलिए इसके श्लोको की व्याख्या करते समय टीकाकार ने अपना कोई भी पक्ष नही रखा है - सरल और सीधा सादा अनुवाद किया है बस ताकि इस ग्रंथ को पढ़कर आप अपने निष्कर्ष निकल सके |




Sample Pages



Add a review
Have A Question

For privacy concerns, please view our Privacy Policy

Book Categories