तिरोहित: Tirohit

$10.20
$17
(20% + 25% off)
Quantity
Delivery Ships in 1-3 days
Item Code: NZE830
Author: गीतांजलि श्री (Gitanjali Shri)
Publisher: Rajkamal Prakashan Pvt. Ltd.
Language: Hindi
Edition: 2007
ISBN: 9788126713622
Pages: 171
Cover: Paperback
Other Details 8.5 inch X 5.5 inch
Weight 200 gm
Fully insured
Fully insured
Shipped to 153 countries
Shipped to 153 countries
More than 1M+ customers worldwide
More than 1M+ customers worldwide
100% Made in India
100% Made in India
23 years in business
23 years in business
पुस्तक परिचय

गीतांजलि श्री के लेखन में अमूमन , और तिरोहित में खास तौर से , सब कुछ ऐसे अप्रकट ढंग से घटता है कि पाठक ठहर -से जाते है | जो कुछ मारके का है, जीवन को बदल देने वाला है, उपन्यास के फ्रेम के बाहर होता है | जिन्दगियां चलती -बदलती है, नए- नए राग -द्धेष उभरते है , प्रतिदान और प्रतिशोध होते है , पर चुपके- चुपके | व्यक्त से अधिक मुखर होता है अनकहा | घटनाक्रम के बजाय केंद्र में रहती है चरित्र -चित्रण व पात्रो के आपसी रिश्तो की बारीकियाँ|

पैनी तराशी हुई गध शैली , विलक्षण विम्बसृष्टि और दो चरित्रों- ललना और भतीजा-के परस्पर टकराते स्मृति प्रवाह के सहारे उद्घाटित होते है तिरोहित के पात्र : उनकी मनोगत इच्छाएँ , वासनाएँ व जीवन से किये गए किन्तु रीते रह गए उनके दावे |

अंदर -बाहर की अदला-बदली को चरितार्थ करती यहाँ तिरती रहती है एक रहस्य्मयी छत | मुहल्ले के तमाम घरो को जोड़ती यह विशाल खुली सार्वजानिक जगह बार बार भर जाती है चच्चो और ललना के अंतर्मन के घेरो से | इसी से बनता है कथानक का रूप | जो हमें दिखाता है चच्चो /बहनजी और ललना की इच्छाओ और उनके यथार्थ और समाज द्वारा देखी गयी उनकी असलियत में |

निरंतर तिरोहित होती रहती है वे समाज के देखे जाने में |

किन्तु चच्चो /बहनजी और ललना अपने अन्तर्द्वन्दो और संघर्षो का सामना भी करती है | उस अपार सीधे -सच्चे साहस से जो सामान्य जिन्दगियों का स्वभाव बन जाता है |

गीतांजलि श्री ने इन स्त्रियों के घरेलू जीवन की अनुभूतियों -रोजमर्रा के स्वाद , स्पर्श , महक , दृश्य -को बड़ी बारीकी से उनकी पूरी सेन्सुअलिटी में उकेरा है |

मौत के तले चलते यादो के सिलसले में छाया रहता है निविड़ दुःख | अतीत चूँकि बीतता नहीं, यादो के सहारे अपने जीवन का अर्थ पाने वाले तिरोहित के चरित्र -ललना और भतीजा -अविभाज्य हो जाते है दिवंगत चच्चो से | और चच्चो स्वयं रूप लेती है इन्ही यादो में |

 

लेखक परिचय


Sample Page

Add a review
Have A Question

For privacy concerns, please view our Privacy Policy

Book Categories