Look Inside

सनातन क्रिया: Sanatan Kriya: Basic Essence of Yoga (With CD)

$15.60
$26
(20% + 25% off)
FREE Delivery
Quantity
Delivery Ships in 1-3 days
Item Code: NZI603
Author: योगी अश्विनी (Yogi Ashwani)
Publisher: Dhyan Foundation
Language: Hindi
Edition: 2012
ISBN: 9788190450676
Pages: 88 (2 Color and 9 B/W Illustrations
Cover: Hardcover
Other Details 7.5 inch X 7.5 inch
Weight 330 gm
Fully insured
Fully insured
Shipped to 153 countries
Shipped to 153 countries
More than 1M+ customers worldwide
More than 1M+ customers worldwide
100% Made in India
100% Made in India
23 years in business
23 years in business


 

लेखक के विषय में

योगी अश्विनी ध्यान फाउंडेशन की मार्गदर्शक ज्योति है और वे योग, तंत्र, तथा विभिन्न प्रकार के आध्यात्मिक विज्ञान के पूर्ण ज्ञात है ! उन्हें अर्थशास्त्र मेंऑनर्स की डिग्री और मैनेजमेंट में मास्टर्स की डिग्री प्राप्त प्राप्त है तथा विश्व भर में भर्मण कर चुके योगी जी, योग की साधना या रूप परिवर्तन के दुनिया भर में विस्तृत कर रहे है! काम शब्दों मेंक आहे तो वस्तुत: पुरातन ऋषियों की परंपरा के अनुसार योग साधना!

 

एक दशक से भी अधिक समय तक प्राणी के अस्तित्व का अध्ययन का अध्ययन करने के उपरांत योगी अशिवनी ने कई वैदिक तकनीकों का मिश्रण कर, आधुनिक मनुष्य के लिए सनातन क्रिया तैयार की है!, उस सनातन क्रिया में ४५०० वर्ष पूर्व ऋषि पातंजलि द्वारा दिए गए अष्टांग योग के सभी आठों अंगों का सार है!

सनातन क्रिया की अदभुत क्षमता से अनगिनत व्यक्तियों का जीवन चमत्कारों की ज्योति से प्रकाशमय हो चुका है! योगी जी के अनुयायिओं के भौतिक संतुलन और आत्मिक उत्थान की उल्लेखनीय स्थिति सनातन क्रिया के द्वारा ही प्रदान की गई है! वे साधक इन चमत्कारों का जीत-जागता प्रमाण है और इस युग में योगी अशिवनी के सामान गुरु की दुर्लभ ऊर्जा के सानिध्य में आकर धन्य हो रहे है!

देश विदेश में अपने प्रत्येक अनुयायी से योगी अशिवनी व्यक्तिगत संपर्क रखे है! उनकी कृपा दृष्टि से उनके अनुयायिओं ने उन चमत्कारों कोस्वयं अनुभव किया है जो अभी तक केवल पढ़े या सुने ही गए थे! ये चमत्कारिक अनुभव हर उस व्यक्ति के लिए संभव थे जो योगी अशिवनी की कृपा के पात्र बन धन्य हुए! ऐसे अदभुत दिव्या पुरुष है योगी अशिवनी

 










Add a review
Have A Question

For privacy concerns, please view our Privacy Policy

Book Categories