BooksHinduक्...

क्षमा करो, सुखी रहो: Forgive and Be Happy

Description Read Full Description
पुस्तक के बारे में "मनुष्य से गलती होती है और उसे क्षमा करना दिव्यता है" ये एक प्रसिद्ध कहावत है। अगर आप में कभी अपने अंदर की दिव्यता का बोध करने की इच्छा जागी है, तो आपको इधर-उधर भटकने...

पुस्तक के बारे में

"मनुष्य से गलती होती है और उसे क्षमा करना दिव्यता है" ये एक प्रसिद्ध कहावत है। अगर आप में कभी अपने अंदर की दिव्यता का बोध करने की इच्छा जागी है, तो आपको इधर-उधर भटकने की जरूरत नहीं है। दादा जे. पी. वासवानी की इस प्रभावशाली पुस्तक के पृष्ठों से आप क्षमाशीलता के जादू में निपुण होने के तरीके सीख सकते हैं।

क्षमाशीलता क्या है? हम किसी को क्षमा क्यों करें? किर तरह क्षमाशीलता हमें शक्ति देती है, हमें राहत देती है और अतीत को भुलाकर, हमें नया जीवन जीने में मदद करती है?

इन प्रश्नों व अन्य कई प्रश्नों के उत्तर इसमें दिए गए हैं। दादा जे.पी. वासवानी का मानव-स्वभाव का ज्ञान बड़ा गहरा है और साथ ही वे करुणाशील व तटस्थ हैं। वे हमें सिखाते हैं कि किस तरह शालीनता से क्षमा माँगनी चाहिए; किस तरह उदारता से क्षमा करना चाहिए, बिगड़े हुए रिश्तों को किस तरह फिर से बनाना चाहिए, बैर व कटुता को कैसे मिटाना चाहिए; और ज़रूरत पड़ने पर हमें स्वयं को कैसे क्षमा करना चाहिए; और सबसे बढ़कर किसी को क्षमा करके कैसे भूल जाना चाहिए।

 

विषय सूची

1

क्रोध से क्रोध समाप्त नहीं होता

7

2

हम क्षमा क्यों करें?

15

3

क्षमाशीलता क्या है?

24

4

क्षमाशीलता स्व-इच्छा का काम है

28

5

क्षमाशीलता दिव्यता है

36

6

क्षमाशीलता शक्ति है

39

7

क्षमाशीलता आपको स्वस्थ कर सकती है

42

8

अतीत को दफना दो

56

9

ईश्वर ने जो भुला दिया, उसे आप भी भुला दीजिए

61

10

दुःखदायी बातों को भूलना सीखें

65

11

क्षमाशीलता की चार अवस्थाएँ

67

12

शालीनता से क्षमा माँगना

71

13

रिश्तों को कायम रखना

75

14

क्षमाशीलता को व्यवहार में लाएँ

78

15

महान लोगों की साक्षी

80

16

व्यावहारिक सुझाव नं:1

89

17

व्यावहारिक सुझाव नं:2

94

18

व्यावहारिक सुझाव नं:3

101

19

व्यावहारिक सुझाव नं:4

106

20

व्यावहारिक सुझाव नं:5

111

21

व्यावहारिक सुझाव नं:6

116

22

व्यावहारिक सुझाव नं:7

124

23

व्यावहारिक सुझाव नं:8

129

24

व्यावहारिक सुझाव नं:9

132

Item Code: NZA935 Author: जे.पी.वासवानी (J.P.Vaswani) Cover: Paperback Edition: 2013 Publisher: Sterling Publishers Pvt. Ltd. ISBN: 9788120784321 Language: Hindi Size: 8.5 inch X 5.5 inch Pages: 144 Other Details: Weight of the Book: 180 gms
Price: $15.00
Shipping Free
Viewed 2780 times since 27th May, 2014
Based on your browsing history
Loading... Please wait

Items Related to क्षमा करो, सुखी रहो: Forgive and Be... (Hindu | Books)

The Miracle of Forgiving (70 Remarkable Stories of Love and Forgiveness)
Forgive Me (Commentary on Sankara's Invocation to Lord Siva Sivaparadhaksamapanastotram) ( Sanskrit Text, Transliteration, Word-to-Word Meaning and Detailed Commentary)
Forgiveness Between Memory and History
The Magic of Forgiveness (Bringing Inner Well-Being Through The Act of Pardoning)
The Bhagavad Gita
19th Akshauhini: Algorithm of the Gita
Vidura Niti (Mahabharata - Udyogaparva)
Burn Anger Before Anger Burns You
Sri Navadvipa Parikrama
The Magnanimous, Ubiquitous and Universal Mother Shree Ma Anandamayee
In Divine Friendship (Letters of Counsel and Reflection)
Viduranitih
Arcana - Dipika (The Light Which Illuminates The Process of Deity Worship)
Sri Subodhini Commentary on Srimad Bhagavata Purana by Mahaprabhu Shri Vallabhacharya Canto: One-Chapters 1 to 9 (Volume 17)
Sri Subodhini Commentary on Srimad Bhagavata Purana by Mahaprabhu Shri Vallabhacharya: Canto Eleven-Chapters 1 to 5 Includes Vritrasura Chatusloki (Volume 16)
Testimonials
I have bought several exquisite sculptures from Exotic India, and I have never been disappointed. I am looking forward to adding this unusual cobra to my collection.
Janice, USA
My statues arrived today ….they are beautiful. Time has stopped in my home since I have unwrapped them!! I look forward to continuing our relationship and adding more beauty and divinity to my home.
Joseph, USA
I recently received a book I ordered from you that I could not find anywhere else. Thank you very much for being such a great resource and for your remarkably fast shipping/delivery.
Prof. Adam, USA
Thank you for your expertise in shipping as none of my Buddhas have been damaged and they are beautiful.
Roberta, Australia
Very organized & easy to find a product website! I have bought item here in the past & am very satisfied! Thank you!
Suzanne, USA
This is a very nicely-done website and shopping for my 'Ashtavakra Gita' (a Bangla one, no less) was easy. Thanks!
Shurjendu, USA
Thank you for making these rare & important books available in States, and for your numerous discounts & sales.
John, USA
Thank you for making these books available in the US.
Aditya, USA
Been a customer for years. Love the products. Always !!
Wayne, USA
My previous experience with Exotic India has been good.
Halemane, USA