Booksमे...

मेरा नन्हा भारत: My Little India

Description Read Full Description
पुस्तक के विषय में एक दार्शनिक के साथ भारत भ्रमण के दौरान आपको मिलेंगी अनुश्रु&...

पुस्तक के विषय में

एक दार्शनिक के साथ भारत भ्रमण के दौरान आपको मिलेंगी अनुश्रुतियां, ऐतिहासिक प्रसंग और कुछ ऐसे नए व पुराने चरित्र, जिन्हें भुलाया नहीं जा सकता । साथ ही मिलेगी किसी विशाल परिदृश्य को देखने की सूक्ष्म दृष्टि । लेखक का जन्म एक ऐसे गांव में हुआ था, जहां बैलगाड़ी से पहुंचना भी दूभर था । अपनी किशोरावस्था तक वे गांव के स्कूलों में ही पढ़े । वे जब भारत के विभिन्न हिस्सों को बतौर पर्यटक देखने जाते हैं तो उन ऐतिहासिक स्थलों को देखने में उनकी दृष्टि पर उनका अतीत कहीं न कहा मंडराता रहता है । कई बार यह दृष्टियां भारत को देखने के क्रम में एक-दूसरे में छितरा जाती प्रतीत होती है ।

इस पुस्तक में शुरुआत की कुछ रचनाएं अंडमान की हैं । राजस्थान के राजपुताना-अतीत पर लेखक ने कई लेख प्रस्तुत किए हैं । इन आलेखों का प्रकाशन 'द स्टेट्समेन' में श्रृंखलाबद्ध रूप से हो चुका है।

मनोज दास (.1934) देश के विख्यात लेखकों में सै हैं । वे अंग्रेजी और ओडियां भाषामें में लिखते है। उन्हें साहित्य अकादेमी पुरस्कार, सरस्वती सम्मान, पद्मश्री जैसे कई सम्मानों से अलंकृत किया जा चुका है । वे इन दिनों श्री अरविंद इंटरनेशनल सेंटर ऑफ एजुकेशन, पांडिचेरी में शिक्षक हैं।

भूमिका

भारत को देखने के कई तरीके हैं बल्कि कई दृष्टियां हैं जिनसे उस परिघटना का अनुभव किया जा सकता है जो भारत है; एक ऐसे गांव में जन्म लेने और बडे होने जहां कि बैलगाड़ी से भी पहुंचना मुश्किल हो और अपनी किशोरावस्था तक गांव के स्कूलों में पढ़ने के कारण इस लेखक की भारत के बारे में दृष्टि में कभी-कभी उसकी अंदरूनी भावनाएं और नोस्टैल्जिया लगी हुई रही हैं, भले ही ऐसा हर वक्त नहीं होता । वह सुझाव देना चाहेगा कि उसे इतिहास के निकष पर कसने से मुक्त कर दिया जाए क्योंकि ये रचनाएं, अगर आप फुर्सत के मूड में हैं, तो स्थानों और लोगों के बारे में इस लेखक के भाव के साथ शामिल होने का आमंत्रण हैं। ये भाव पिछले कई वर्षो में इस लेखक के दिमाग और कल्पनाओं में आए हैं ।

ये दृष्टियां भारत को देखने के क्रम में एक-दूसरे में छितरा गई भी हो सकती हैं जैसा कि उन्नीसवीं शताब्दी के अंतिम दशक में इस देश के बारे में मार्क ट्वेन को हुआ था 'यह वास्तव में भारत है । सपने और रोमांस, काल्पनिक धन और काल्पनिक गरीबी, तेज और चीर, महल और कुटिया, अकाल और महामारी, भूत-प्रेत और अलौकिक मानव, बाग और जंगल, सैकड़ों देशों और सैकड़ों भाषाओं के राष्ट्र, हजारों धर्म और बीस लाख देवी-देवताओं, मानव-जाति के झूले, मानव-बोली का जन्म-स्थान, इतिहास की माता, पौराणिक कथा की दादी, परंपरा की परदादी की भूमि,...एक ऐसी भूमि जिसे देखने की सभी लोग इच्छा रखते हैं और जिसे एक बार झलक भर ही सही, किसी ने देख लिया हो तो उसे ऐसी झलक पूरी दुनिया में कहीं नहीं मिलेगी ।'

(मोर ट्रैम्प्स एब्रोड, 1897) शुरुआत की कुछ रचनाएं अंडमान पर हैं और ये यथार्थ पर आधारित हैं जबकि राजस्थान वाली रचनाओं में 'सपने और रोमांस' भारी हैं और शेष रचनाएं निरपेक्ष अनुभव और आत्म-चेतना वाली प्रतिक्रियाओं का मिश्रण हैं । चूंकि लेखक दो भाषाओं में गति रखता है, अधिकांश रचनाओं को उड़िया में अंतरंग भारत नाम से संग्रहीत किया गया है ।

मैं क्र स्टेट्समैनको धन्यवाद देता हूं जिसने इसे श्रृंखलाबद्ध ढंग से प्रकाशित किया । पाठकीयता की दृष्टि से मैं भाग्यशाली रहा क्योंकि कई लोगों ने इस श्रृंखला के पुस्तक रूप में आने की संभावना के बारे में पूछताछ की जबकि एक ने इसके प्रकाशन का प्रस्ताव किया । वे थे नेशनल बुक ट्रस्ट, इंडिया के निदेशक श्री निर्मल कांति भट्टाचार्जी । मैं उनके प्रति आभारी हूं और बिन्नी कूरियन के प्रति भी जिन्होंने इसे संपादन के नजरिये से देखा । इसके साथ ही मैं ट्रस्ट के अधिकारियों के प्रति भी आभारी हूं ।

 

अनुक्रम

भूमिका

सात

1

कुरूप गोधूलि

1

2

याद रखने वाली एक रात

7

3

बारंबार भेंट चढ़ने वाला टापू और उसका अंतिम अतिथि

13

4

सबसे प्यारे सूर्यास्त के बाद मृत्यु

18

5

भगवान के दायरे से बाहर का साम्राज्य

23

6

मिथकीय जंगल की खोज में (1)

28

7

मिथकीय जंगल की खोज में (2)

33

8

मिथकीय जंगल की खोज में (3)

39

9

मौन राजकुमारी की छाया (1)

44

10

मौन राजकुमारी की छाया (2)

49

11

महानता का दुखांत (1)

54

12

महानता का दुखांत (2)

58

13

अद्वितीय धरोहर रखवाला

63

14

कृष्ण की वधू

68

15

नीले घोड़े का सवार

74

16

सवाई आदमी

79

17

शरमीले शहर की कहानी

83

18

कुछ रखवाली हथेलियों की छाप

87

19

विश्व के पहले क्विज मास्टर के प्रदेश में

92

20

रहस्यमय फल की पौराणिक कथा

97

21

'ईश्वर की आत्मा वाला' हिमालय

102

22

निपुण गायक और उसके निपुण श्रोताओं पर

106

23

मुक्ति के लिए दुर्बल मार्ग

111

24

मध्य रात्रि समागम

116

25

निषिद्ध गुफा : महान महाकाव्य का धायघर

121

26

व्यास की कार्यशाला की विदाई

126

27

सपने पर वार्तालाप करते हुए यात्रा

132

28

पवित्रता का इलाका

138

29

हिम और अनंतता के निवासी

143

30

ज्ञान प्राप्त व्यक्ति के चरण चिह्न

148

31

महान लालिमा की स्मृतियां

153

32

काल से भी पुराना शहर

158

33

खो गए मोरों की खोज में

163

34

दुर्बोध भेदिया

169

35

'अपरिचित के साथ गुप्त सभा'

174

36

'खोदो, बच्चे, खोदो !'

179

37

भारत में 'अपने पूरे प्रभाव के साथ बेबीलोन'

183

38

टापू के लिए सात सौ वधुएं

188

39

उच्च कोटि के ग्रंथ से पुन: रचित एक स्थल

194

40

दो शहरों की कथा और एक संतप्त नायक

198

41

जंगल में एक रात,

202

42

और जंगल में एक सूर्योदय

206

43

हजारों गुप्त टापू

211

44

परमात्मा की दो प्रेमिकाएं

216

45

क्या ईश्वर का परमसुख अब भी जारी है?

221

46

लालटेन और तारों वाली शाम की खोज में

228

47

एक पौराणिक कथा और एक चमक

233

Sample Page


Item Code: NZD116 Author: मनोज दास (Manoj Das) Cover: Paperback Edition: 2014 Publisher: National Book Trust ISBN: 9788123745817 Language: Hindi Size: 8.5 inch X 5.5 inch Pages: 244 Other Details: Weight of the Book: 310 gms
Price: $11.00
Best Deal: $8.80
Shipping Free
Be the first to review this product
Viewed 3379 times since 7th Jul, 2014
Based on your browsing history
Loading... Please wait

Items Related to मेरा नन्हा भारत: My Little India (Hindi | Books)

A Dialogue with Memory (Manoranjan Das)
Chasing The Rainbow (Growing up in an Indian Village)
Streams of Yogic and Mystic Experience
Tales Told By Mystics
Myths, Legends Concepts and Literary Antiquities of India
श्री अरविन्द: Sri Aurobindo
अमृतफल: Amritphal (Saraswati Award Winning Oriya Novel)
Sri Aurobindo (Makers of Indian Literature)
My Little India
भजन, आरतियाँ और लोकगीत Bhajan, Aartiyan aur Lokgeet ((Hindi Text and Roman Transliteration))
Miracles of Shirdi's Saibaba
Ayurveda Darsana (Philosophical Speculations in Indian Medicine)
Why? Hindu Customs, Rituals and Rites (The Answer to all the Questions Regarding Hindu Customs and Bliefs)
Ramayana: Ayodhya kand (Part-2)
Testimonials
Shiva came today.  More wonderful  in person than the images  indicate.  Fast turn around is a bonus. Happy trail to you.
Henry, USA
Namaskaram. Thank you so much for my beautiful Durga Mata who is now present and emanating loving and vibrant energy in my home sweet home and beyond its walls.   High quality statue with intricate detail by design. Carved with love. I love it.   Durga herself lives in all of us.   Sathyam. Shivam. Sundaram.
Rekha, Chicago
People at Exotic India are Very helpful and Supportive. They have superb collection of everything related to INDIA.
Daksha, USA
I just wanted to let you know that the book arrived safely today, very well packaged. Thanks so much for your help. It is exactly what I needed! I will definitely order again from Exotic India with full confidence. Wishing you peace, health, and happiness in the New Year.
Susan, USA
Thank you guys! I got the book! Your relentless effort to set this order right is much appreciated!!
Utpal, USA
You guys always provide the best customer care. Thank you so much for this.
Devin, USA
On the 4th of January I received the ordered Peacock Bell Lamps in excellent condition. Thank you very much. 
Alexander, Moscow
Gracias por todo, Parvati es preciosa, ya le he recibido.
Joan Carlos, Spain
We received the item in good shape without any damage. It is simply gorgeous. Look forward to more business with you. Thank you.
Sarabjit, USA
Your sculpture is truly beautiful and of inspiring quality!  I wish you continuous great success so that you may always be able to offer such beauty to all people throughout the world! Thank you for caring about your customers as well as the standard of your products.  It is extremely appreciated!! Sending you much love.
Deborah, USA