BooksHinduतु...

तुलसी राम कथा: Tulsidas' Rama Katha

Description Read Full Description
प्रकाशकीय हमारे देश में शायद ही कोई ऐसा व्यक्ति होगा, जिसने राम का नाम न सुना हो ...

प्रकाशकीय

हमारे देश में शायद ही कोई ऐसा व्यक्ति होगा, जिसने राम का नाम न सुना हो और रामकथा से परिचित न हो। अपने देश में ही क्यों, संसार के अनेक देशों में राम-भक्ति की धारा प्रवाहित है। दक्षिण-पूर्व एशिया में तो समूचा लोकजीवन राम की भक्ति से ओतप्रोत है। सच बात तो यह है कि राम के नाम में और उनके चरित्र में कुछ ऐसा जादू है कि उनकी कथा को एक बार पढ़ लेने से तृप्ति नहीं होती, उसे बार-बार पढ़ने को जी चाहता है।

इस पुस्तक के चार भागों में हमने राम के जीवन के प्रमुख प्रसंगों को लेकर सारी कथा इस प्रकार दीं है कि सामान्य पढ़े-लिखे पाठक भी इसे आसानी से समझ सकते हैं। बचि-बीच में चुनी हुई चौपाइयाँ तथा दोहे भी दे दिये हैं, जिससे यह पुस्तक और भी सरस तथा रोचक बन गई है।

हमें पूरा विश्वास है कि सभी वर्गों और क्षेत्रों के पाठक इस पुस्तक का पूरा लाभ न केवल स्वयं लेंगे, अपितु दूसरों को भी लेने की प्रेरणा देंगे।

 

अनुक्रमण

राम-जन्म

1

जन्म

9

2

नामकरण

14

3

बाल-लीला

16

4

विद्याभ्यास

19

5

विश्वामित्र की माँग

21

6

यज्ञ-रक्षा

26

7

जनकपुरी कीं ओर

29

8

नगरी में स्वागत

32

9

प्रथम दर्शन

35

10

स्वयंवर में

38

11

धनुष-भंग

41

12

परशुराम-संवाद

44

13

सुखद-संवाद

50

14

बारात की शोभा

52

15

जनकपुरी में स्वागत

55

16

विवाह-संस्कार

56

17

उसी मण्डप में

59

18

सत्कार

61

19

हृदय-स्पर्शी विदाई

62

20

वापसी

64

21

अयोध्यापुरी में

65

राम-वनगमन

22

राजतिलक का विचार

71

23

मन्थरा की कुटिलता

73

24

कैकेयी का दुराग्रह

75

25

पुत्र की कर्तव्य-निष्ठा

78

26

सीताजी को रोकने का प्रयत्न

82

27

लक्ष्मण भी तैयार हो गये

84

28

माता-पिता और पुरवासियों की वेदना

88

29

प्रस्थान

89

30

निषाद-मिलन

91

31

केवट की अनोखी चाह

93

32

ऋषि-मुनियों के आश्रम में

94

33

दशरथ-मरण

99

34

चित्रकूट में वास

102

35

लक्ष्मण का कोप

105

36

भरत-मिलाप

106

37

राम नहीं लौटे

110

38

विदाई

113

39

अनुसूया का उपदेश

115

40

राम की प्रतिज्ञा

119

41

मुनि अगस्त से भेंट

122

42

शूर्पणखा का प्रपंच

128

43

खर-दूषण-वध

131

44

रावण के दरबार में

135

सीता-हरण

45

मारीच और रावण का प्रपंच

141

46

कंचन-मृग के पीछे

143

47

सीता-हरण

146

48

जटायु की वीरगति

148

49

सीता के वियोग में

151

50

शबरी की भक्ति

153

51

नारदजी को उपदेश

157

52

राम-हनुमान मिलन

161

53

सुग्रीव से भेंट

165

54

बालि-वध

171

55

वर्षा-वर्णन

178

56

शरद-वर्णन

182

57

सुग्रीव पर कोप

184

58

सीता की खोज में

188

59

हनुमान का साहस

191

60

भक्त विभीषण से भेंट

194

61

रावण की धमकी

197

62

सीता को ढाढ़स

200

63

अशोक वाटिका में युद्ध

204

64

रावण की सभा में

206

65

लंका दहन

212

66

हनुमान की वापसी

216

67

सीता की दशा का वर्णन

220

68

लंका को ओर

223

लंका-विजय

69

मंदोदरी की सलाह

227

70

विभीषण का अपमान

228

71

शरणागत पर कृपा

233

72

समुद्र पर पुल

238

73

अंगद-रावण-संवाद

241

74

अंगद का पैर जमाना

246

75

लंका पर चढ़ाई

249

76

युद्धारम्भ

251

77

मेघनाद का युद्ध-कौशल

254

78

लक्ष्मण पर शक्ति-प्रयोग

266

79

कालनेमि का माया-जाल

269

80

भरत को भ्रम

263

81

राम का विलाप

266

82

लक्ष्मण की मूर्च्छा-भंग

268

83

कुम्भकरण-वध

270

84

मेघनाद-वध

273

85

रावण से युद्ध

277

86

रावण-वध

282

87

विभीषण का राजतिलक

287

88

सीताजी का आगमन

288

89

अयोध्या को प्रस्थान

290

90

मार्ग में

293

91

हनुमान भरत से मिले

296

92

आनन्दमग्न अयोध्या

300

93

मंगल-मिलन

302

94

राम का राजतिलक

307

95

मित्रों को विदाई

310

Sample Page


Item Code: NZA989 Author: विश्वम्भरसहाय प्रेमी (Visvambharasahaya Premi) Cover: Paperback Edition: 2017 Publisher: Sasta Sahitya Mandal Prakashan ISBN: 8173091854 Language: Hindi Size: 8.5 inch X 5.5 inch Pages: 312(Throughout B/W Illustrations) Other Details: Weight of the Book: 340 gms
Price: $13.00
Best Deal: $10.40
Shipping Free
Viewed 4775 times since 25th Sep, 2019
Based on your browsing history
Loading... Please wait

Items Related to तुलसी राम कथा: Tulsidas' Rama Katha (Hindu | Books)

Rama-Katha (The story of Rama in Indian Miniatures)
वाल्मीकिकृत राम-कथा: Valmiki's Rama Katha
वैदिक वांग्मय में रामकथा: Rama Katha in Vedic Literature (An Old and Rare Book)
रामायण कथामृत: Rama Katha of Morari Bapu
रामकथा मंदाकिनी: Rama Katha Mandakini
सम्पूर्ण रामायण रसामृत: Rama Katha by Morari Bapu
दिव्य राम कथा: Divine Rama Katha
श्री रघुनाथ कथा: Shri Raghunath Katha (Story of Bhagawan Rama)
राम कथा (वाल्मीकि रामायण पर आधारित): Rama Katha Based on Valmiki Ramayana
Brave Rajputs Five Illustrated Classics from India: Prithiviraj Chauhan, Rana Kumbha, Rana Sanga, Rana Pratap, Rani Durgavati (Hardcover Comic Book)
The Ocean of Story Being C.H. Tawney's Translation of Somadeva's Katha Sarit Sagara (Kathasaritsagara): (Ten Volumes)
कथा सरितसागर: Katha Sarit Sagar
Amar Chitra Katha The Ultimate Collection (Boxed Set of 325 Comics)
Prasthanathraya Volume- II (Isa, Kena, Katha and Mandukya Upanishad with the Karika of Gaudapada) The Only Edition with Shankaracharya's Commentary
Testimonials
My previous purchasing order has safely arrived. I'm impressed. My trust and confidence in your business still firmly, highly maintained. I've now become your regular customer, and looking forward to ordering some more in the near future.
Chamras, Thailand
Excellent website with vast variety of goods to view and purchase, especially Books and Idols of Hindu Deities are amongst my favourite. Have purchased many items over the years from you with great expectation and pleasure and received them promptly as advertised. A Great admirer of goods on sale on your website, will definately return to purchase further items in future. Thank you Exotic India.
Ani, UK
Thank you for such wonderful books on the Divine.
Stevie, USA
I have bought several exquisite sculptures from Exotic India, and I have never been disappointed. I am looking forward to adding this unusual cobra to my collection.
Janice, USA
My statues arrived today ….they are beautiful. Time has stopped in my home since I have unwrapped them!! I look forward to continuing our relationship and adding more beauty and divinity to my home.
Joseph, USA
I recently received a book I ordered from you that I could not find anywhere else. Thank you very much for being such a great resource and for your remarkably fast shipping/delivery.
Prof. Adam, USA
Thank you for your expertise in shipping as none of my Buddhas have been damaged and they are beautiful.
Roberta, Australia
Very organized & easy to find a product website! I have bought item here in the past & am very satisfied! Thank you!
Suzanne, USA
This is a very nicely-done website and shopping for my 'Ashtavakra Gita' (a Bangla one, no less) was easy. Thanks!
Shurjendu, USA
Thank you for making these rare & important books available in States, and for your numerous discounts & sales.
John, USA