Subscribe for Newsletters and Discounts
Be the first to receive our thoughtfully written
religious articles and product discounts.
Your interests (Optional)
This will help us make recommendations and send discounts and sale information at times.
By registering, you may receive account related information, our email newsletters and product updates, no more than twice a month. Please read our Privacy Policy for details.
.
By subscribing, you will receive our email newsletters and product updates, no more than twice a month. All emails will be sent by Exotic India using the email address info@exoticindia.com.

Please read our Privacy Policy for details.
|6
Sign In  |  Sign up
Your Cart (0)
Best Deals
Share our website with your friends.
Email this page to a friend
Books > Hindi > साहित्य > साहित्य का इतिहास > भाषा का इतिहास: History of Language
Subscribe to our newsletter and discounts
भाषा का इतिहास: History of Language
भाषा का इतिहास: History of Language
Description

पुस्तक परिचय

भारतीय सत्य इतिहास को प्रकाशित करने वाले वैदिक वाङ्मय का इतिहास, भारतवर्ष का इतिहास, तथा भारतवर्ष का वृहद् इतिहास आदि ग्रन्थों के अनुक्रम में यह पुस्तक अद्वितीय है । लेखक ने वर्तमान भाषा मत के दोषों का उन्मूलन कर प्राचीन भारतीय आर्य ग्रन्यों की सहायता से इसे मत मात्र से उपर उठाकर भाषा विद्या के स्थान तक पहुँचाया है ।

पश्चिम के सर्वमान्य भाषाविदों के विभिन्न मत भी प्राय उद्धृत किये गए है । जर्मन लेखकों का भाषा विद्या विषयक मिथ्याभिमान परीक्षित किया गया है और उसका खोखलापन दर्शाया गया है ।

सत्यवक्ता, नीरजस्तम, तत्त्ववेत्ता, महाज्ञान सम्पन्न आर्य विद्वान् मूल भाषा संस्कृत के क्यों उपासक थे, और विकृत, कलुषित अपभ्रंशों के क्यों विरोधी थे, यह तथ्य इस ग्रन्थ के अध्ययन से स्पष्ट होगा ।

 

प्रकाशकीय

श्री पं० भगवद्दत्त जी का स्नेह, आशीर्वाद व सहयोग गोविन्दराम हासानन्द को सदैव मिलता रहा है । सन् 1962 में स्व० श्री विजयकुमार जी के आग्रह पर पं० भगवद्दत्त जी ने सत्यार्थ प्रकाश का एक बहुपयोगी संस्करण अत्यन्त परिश्रम से तैयार किया जिसका प्रकाशन निरन्तर हो रहा है ।

पं० भगवद्दत्त जी की कालजयी कृति भाषा का इतिहास का प्रकाशन कर मुझे अत्यन्त गौरव अनुभव हो रहा है । यह ग्रन्थ पर्याप्त समय से अनुपलब्ध था तथा विद्वानों विद्यार्थियों, अनुसंधानकर्ताओं तथा सुधी पाठकों द्वारा निरन्तर इसकी माग की जा रही थी ।

मैं आभारी हूँ श्रीमती श्रुति जी का जिनकी अनुमति से इसका पुन प्रकाशन सम्भव हो पाया ।

मेरा प्रयास होगा की इस ग्रन्थ का अगला संस्करण कम्प्यूटर द्वारा पुन मुद्रित कर और भी भव्य साज सज्जा के साथ प्रस्तुत किया जाए ।

 

विषय सूची

1

भाषा की उत्पत्ति

1

2

भाषा की वृद्धि वा ह्रास

20

3

भाषा परिवर्तन

36

4

सादृश्य

55

5

पद और उसका स्वरूप

62

6

शब्दार्थ सम्बन्ध तथा अर्थपरिवर्तन आदि

77

7

वर्ण विमर्श लिपि और वर्ण उच्चारण

87

8

उच्चारण विकार (ध्वनि विपर्यास)

107

9

भाषा विज्ञान वा भाषा मत

137

10

अतिभाषा आदिभाषा

142

11

भाषाओं का पाश्चात्य वर्गीकरण

177

12

इण्डोयोरोपियन (प्राक्भारोपीय भाषा)

193

13

वेदवाक्

203

14

ईरानी भाषा

213

15

हित्ती भाषा

219

16

यावनी ( ग्रीक) भाषा

223

17

प्राकृत

231

18

द्राविड़ आदि भाषाएँ

248

19

अपभ्रश

253

20

हिन्दी पंजाबी

258

21

अंग्रेज़ी

269

 

भाषा का इतिहास: History of Language

Item Code:
HAA195
Cover:
Paperback
Edition:
2012
Publisher:
ISBN:
9788170771876
Language:
Hindi
Size:
8.5 inch X 5.5 inch
Pages:
296
Other Details:
Weight of the Book: 330 gms
Price:
$12.00   Shipping Free
Add to Wishlist
Send as e-card
Send as free online greeting card
भाषा का इतिहास: History of Language

Verify the characters on the left

From:
Edit     
You will be informed as and when your card is viewed. Please note that your card will be active in the system for 30 days.

Viewed 3018 times since 19th Oct, 2018

पुस्तक परिचय

भारतीय सत्य इतिहास को प्रकाशित करने वाले वैदिक वाङ्मय का इतिहास, भारतवर्ष का इतिहास, तथा भारतवर्ष का वृहद् इतिहास आदि ग्रन्थों के अनुक्रम में यह पुस्तक अद्वितीय है । लेखक ने वर्तमान भाषा मत के दोषों का उन्मूलन कर प्राचीन भारतीय आर्य ग्रन्यों की सहायता से इसे मत मात्र से उपर उठाकर भाषा विद्या के स्थान तक पहुँचाया है ।

पश्चिम के सर्वमान्य भाषाविदों के विभिन्न मत भी प्राय उद्धृत किये गए है । जर्मन लेखकों का भाषा विद्या विषयक मिथ्याभिमान परीक्षित किया गया है और उसका खोखलापन दर्शाया गया है ।

सत्यवक्ता, नीरजस्तम, तत्त्ववेत्ता, महाज्ञान सम्पन्न आर्य विद्वान् मूल भाषा संस्कृत के क्यों उपासक थे, और विकृत, कलुषित अपभ्रंशों के क्यों विरोधी थे, यह तथ्य इस ग्रन्थ के अध्ययन से स्पष्ट होगा ।

 

प्रकाशकीय

श्री पं० भगवद्दत्त जी का स्नेह, आशीर्वाद व सहयोग गोविन्दराम हासानन्द को सदैव मिलता रहा है । सन् 1962 में स्व० श्री विजयकुमार जी के आग्रह पर पं० भगवद्दत्त जी ने सत्यार्थ प्रकाश का एक बहुपयोगी संस्करण अत्यन्त परिश्रम से तैयार किया जिसका प्रकाशन निरन्तर हो रहा है ।

पं० भगवद्दत्त जी की कालजयी कृति भाषा का इतिहास का प्रकाशन कर मुझे अत्यन्त गौरव अनुभव हो रहा है । यह ग्रन्थ पर्याप्त समय से अनुपलब्ध था तथा विद्वानों विद्यार्थियों, अनुसंधानकर्ताओं तथा सुधी पाठकों द्वारा निरन्तर इसकी माग की जा रही थी ।

मैं आभारी हूँ श्रीमती श्रुति जी का जिनकी अनुमति से इसका पुन प्रकाशन सम्भव हो पाया ।

मेरा प्रयास होगा की इस ग्रन्थ का अगला संस्करण कम्प्यूटर द्वारा पुन मुद्रित कर और भी भव्य साज सज्जा के साथ प्रस्तुत किया जाए ।

 

विषय सूची

1

भाषा की उत्पत्ति

1

2

भाषा की वृद्धि वा ह्रास

20

3

भाषा परिवर्तन

36

4

सादृश्य

55

5

पद और उसका स्वरूप

62

6

शब्दार्थ सम्बन्ध तथा अर्थपरिवर्तन आदि

77

7

वर्ण विमर्श लिपि और वर्ण उच्चारण

87

8

उच्चारण विकार (ध्वनि विपर्यास)

107

9

भाषा विज्ञान वा भाषा मत

137

10

अतिभाषा आदिभाषा

142

11

भाषाओं का पाश्चात्य वर्गीकरण

177

12

इण्डोयोरोपियन (प्राक्भारोपीय भाषा)

193

13

वेदवाक्

203

14

ईरानी भाषा

213

15

हित्ती भाषा

219

16

यावनी ( ग्रीक) भाषा

223

17

प्राकृत

231

18

द्राविड़ आदि भाषाएँ

248

19

अपभ्रश

253

20

हिन्दी पंजाबी

258

21

अंग्रेज़ी

269

 

Post a Comment
 
Post Review
Post a Query
For privacy concerns, please view our Privacy Policy
Based on your browsing history
Loading... Please wait

Items Related to भाषा का इतिहास: History of Language (Hindi | Books)

Gender, Language, and Learning (Essays in Indo-Muslim Cultural History)
by Gail Minault
Hardcover (Edition: 2009)
Permanent Black
Item Code: NAI017
$45.00
Add to Cart
Buy Now
Tell Me About Islamic History (Pages from Islamic History)
Deal 20% Off
by Luqman Nagy
Paperback (Edition: 2009)
Goodword Books
Item Code: NAE100
$12.50$10.00
You save: $2.50 (20%)
Add to Cart
Buy Now
The Language of the Harappans: From Akkadian to Sanskrit
by Malati J. Shendge
Hardcover (Edition: 1987)
Abhinav Publications
Item Code: IDH148
$50.00
Add to Cart
Buy Now
The Language of Political Islam in India c. 1200-1800
by Muzaffar Alam
Paperback (Edition: 2010)
Permanent Black
Item Code: NAG574
$25.00
Add to Cart
Buy Now
The Language of Secular Islam: Urdu Nationalism and Colonial India
Item Code: NAF598
$40.00
Add to Cart
Buy Now
Separatism in North-East India: Role of Religion Language & Script
by Kunal Ghosh With Vikas Kumar
Paperback (Edition: 2008)
Suruchi Prakashan
Item Code: NAJ393
$15.00
Add to Cart
Buy Now
The Sexual Life of English (Language of Caste and Desire in Colonial India)
by Shefali Chandra
Hardcover (Edition: 2013)
Zubaan Publications
Item Code: NAG274
$40.00
Add to Cart
Buy Now
The Social Space of Language (Vernacular Culture in British Colonial Punjab)
by Farina Mir
Hardcover (Edition: 2010)
Permanent Black
Item Code: NAG013
$40.00
Add to Cart
Buy Now
Indian Literature in Tribal Languages: Mizo Songs and Folk Tales
by Laltluangliana Khiangte
Paperback (Edition: 2009)
Sahitya Akademi
Item Code: IDH396
$15.00
Add to Cart
Buy Now
Testimonials
Awesome books collection. lots of knowledge available on this website
Pankaj, USA
Very easy to do business with your company.
Paul Gomez, USA
Love you great selection of products including books and art. Of great help to me in my research.
William, USA
Thank you for your beautiful collection.
Mary, USA
As if i suddenly discovered a beautiful glade after an exhausting walk in a dense forest! That's how i feel, incredible ExoticIndia !!!
Fotis, Greece
Each time I do a command I'm very satisfy.
Jean-Patrick, Canada
Very fast and straight forward.
Elaine, New Zealand
Good service.
Christine, Taiwan.
I received my Manjushri statue today and I can't put in words how delighted I am with it! Thank you very much. It didn't take very long to get here (the UK) - I wasn't expecting it for a few more weeks. Your support team is very good at providing customer service, too. I must conclude that you have an excellent company.
Mark, UK.
A very comprehensive site for a company with a good reputation.
Robert, UK
Language:
Currency:
All rights reserved. Copyright 2019 © Exotic India